पापड़ि का Weight Gain चैलेंज: वजन बढ़ा या नहीं?

पापड़ि का Weight Gain चैलेंज: वजन बढ़ा या नहीं?

डोले-शोले

(मेरा नाम पापड़ि दास है और मैंने दो महीने में अपना वजन बढ़ाने का चैलेंज लिया है! 'मैं वजन क्यों बढ़ाना चाहती हूं' से लेकर इस चैलेंज को पूरा करने के लिए मैंने क्या-क्या किया, ये जानने के लिए नीचे दिए तीन लिंक पर क्लिक करें.)

ये भी पढ़ें: पापड़ि का Weight Gain चैलेंज: मैं वजन बढ़ाना क्यों चाहती हूं?

ये भी पढ़ें: पापड़ि का Weight Gain चैलेंज: वजन बढ़ाने का डाइट प्लान

ये भी पढ़ें: पापड़ि का Weight Gain चैलेंज: बाहर का खाना Vs घर पर पकाना

ये भी पढ़ें: पापड़ि का Weight Gain चैलेंज: वजन बढ़ाने के लिए वर्कआउट

7वां और 8वां हफ्ता

जैसे-जैसे चैलेंज खत्म होने को आ रहा था, मेरी टेंशन बढ़ रही थी. डाइट प्लान फॉलो करने के बाद भी उम्मीद के मुताबिक वजन न बढ़ने से मैं परेशान थी.

न्यूट्रिशनिस्ट रुपाली दत्ता से मिलकर हमने उसी डाइट में खाने की मात्रा बढ़ाने का फैसला किया.

अब मुझे ज्यादा खाना बनाने और खाने के साथ ज्यादा एक्सरसाइज भी करनी थी.

गनीमत है कि मदद के लिए मेरी मां कोलकाता से दिल्ली आ गईं. उन्होंने न सिर्फ मुझे मोटिवेट किया बल्कि मेन्यू में कुछ डिशेज को क्लासिक बंगाली डिशेज में तब्दील कर दिया. चीजें वहीं थीं, सिर्फ पकाने का स्टाइल बदल गया.

मुझे पता चला कि बचपन में जो सब्जियां और साग मेरी मां खिलाया करती थीं, वो कितने पोषक हैं और उनकी जरूरत सिर्फ इस चैलेंज के लिए नहीं बल्कि सामान्य तौर पर भी ताउम्र होगी.

पापड़ि के Weight Gain चैलेंज का 60वां दिन

चैलेंज के 60वें दिन हिम्मत जुटा कर मैं रुपाली दत्ता के क्लीनिक पहुंची, ये जानने के लिए कि मैंने ये चैलेंज कितना पूरा किया.

बिना देरी किए मेरा वजन लिया गया.

रीडिंग थी 36.9 किलो.

नतीजा ये था कि 8 हफ्तों के चैलेंज में मेरा वजन 3.7 kg बढ़ा. जाहिर है, मैं 12 किलो वजन नहीं बढ़ा पाई, जो कि मेरा टारगेट था. लेकिन रुपाली दत्ता ने बताया कि इतने कम समय में 12 किलो वजन बढ़ाना ठीक नहीं है.

वजन बढ़ाने के इस चैलेंज से पापड़ि ने क्या सिखा?

वजन बढ़ाने के इस चैलेंज ने मुझे कई चीजें सिखाईं, जैसे:

  • बहुत पतला होने के बावजूद बॉडी फैट परसेंट हाई हो सकता है.
  • जंक फूड खाकर वजन बढ़ाना हेल्दी तरीका नहीं है. वजन बढ़ाना हो या घटाना, बैलेंस्ड डाइट जरूरी है.
  • वजन बढ़ाने के लिए जरूरी है कि एक बार में बहुत ज्यादा खाने की बजाए फिक्स टाइम पर खाएं.
  • कोई भी डाइट आप पर बेहतर असर करे, इसके लिए जरूरी है कि आप स्ट्रेस फ्री और मोटिवेटेड रहें.
  • वजन बढ़ाने के लिए वर्क आउट भी जरूरी है.

भले ही 8 हफ्तों का ये चैलेंज खत्म हुआ, लेकिन असली चुनौती अब शुरू हुई है. वो है, जितना वजन बढ़ा है, उसे बनाए रखना और इसके साथ ही हेल्दी लाइफस्टाइल फॉलो करना.

कैमरा पर्सन: शिव कुमार मौर्य, अतहर राथेर, अभय शर्मा, सुमित बडोला और अभिषेक रंजन

ग्राफिक्स एंड आर्ट: इरम गौर और आर्णिका काला

वीडियो एडिटर: दीप्ति रामदास

Follow our डोले-शोले section for more stories.

डोले-शोले