सेक्सॉल्व: ‘मुझे और ज्यादा मर्दाना दिखने के लिए क्या करना चाहिए?’
लोगों की सोच के हिसाब से कभी भी खुद को बदलने की जरूरत नहीं है.
लोगों की सोच के हिसाब से कभी भी खुद को बदलने की जरूरत नहीं है.(फोटो:iStock)

सेक्सॉल्व: ‘मुझे और ज्यादा मर्दाना दिखने के लिए क्या करना चाहिए?’

सेक्सॉल्व समता के अधिकार के पैरोकार हरीश अय्यर का FIT पर सवाल-जवाब आधारित कॉलम है.

अगर आपको सेक्स, सेक्स के तौर-तरीके या रिलेशनशिप से जुड़ी कोई परेशानी है, कोई उलझन है, जिसे आप हल नहीं कर पा रहे हैं या आपको किसी तरह की सलाह की जरूरत है, किसी सवाल का जवाब चाहते हैं या फिर यूं ही चाहते हैं कि कोई आपकी बात सुन ले, तो हरीश अय्यर को लिखिए, वह आपके लिए ‘सेक्सॉल्व’ करने की कोशिश करेंगे. आप sexolve@thequint.com पर मेल करें.

पेश हैं इस हफ्ते के सवाल-जवाबः

'मैं एक आदमी हूं, जो दूसरे आदमी से प्यार करता है, लेकिन मेरी उसके साथ सेक्स करने की इच्छा नहीं है'

हम हमेशा प्यार को परिभाषित करने की कोशिश क्यों करते हैं?
हम हमेशा प्यार को परिभाषित करने की कोशिश क्यों करते हैं?
(फोटो:iStock)

प्रिय रेनबोमैन,

मैं 28 साल का एक आदमी हूं. पिछले 6 साल से मैं एक आदमी से प्यार करता हूं. मैं उसके सपने देखता हूं. मैं उसके साथ रहने का सपना देखता हूं. मैं उसे गले लगाने का सपना देखता हूं. हालांकि, मेरी उसके साथ सेक्सुअल केमेस्ट्री नहीं है, ना ही मेरी उसके साथ सेक्स करने की ख्वाहिश होती है. अन्य पुरुषों के मामले में ऐसा महसूस नहीं करता हूं. मैं महिलाओं के साथ भी सेक्स संबंध की कल्पना करता हूं. मैं सोचता हूं कि मैं इस इकलौते आदमी के लिए अपने प्यार को क्या नाम दूं. क्या मैं बाइसेक्सुअल हूं? क्या मैं ब्रोमेंस (दो पुरुषों में नजदीकी, लेकिन सेक्स संबंध नहीं) चरित्र वाला स्ट्रेट हूं? मैं क्या हूं? मैं कौन हूं?

लव

प्रिय लव,

आपका दिल प्यार के असली अर्थ को जानता है. इसमें आपका मुकाबला आप से ही है. आपको इसका आनंद लेना जारी रखना चाहिए.

मैं आपको जो बताऊंगा, वह आपको काल्पनिक संसार की बात लग सकती है, लेकिन, मैं चीजों को ऐसे ही देखता हूं. मैं चीजों को आपके साथ वैसे ही साझा करना चाहता हूं, जैसा मैं देखता हूं- शीशे की तरह साफ.

हम हमेशा प्यार को परिभाषित करने की कोशिश क्यों करते हैं और नतीजे में प्यार को शब्दों की सीमा में कैद कर देते हैं? यह सीमा-विहीन, अपरिभाषित क्यों नहीं हो सकता, जिसे सिर्फ महसूस किया जा सकता हो?

केवल आप ही जान सकते हैं कि आपकी सेक्सुअलटी क्या है. लेकिन मैं आपको बता सकता हूं कि मनुष्यों के लिए सेक्स संबंध रखने की भावना के बिना भी, पुरुषों के लिए अन्य लोगों के प्रति लगाव महसूस करना स्वाभाविक है. यह पूरी तरह से प्राकृतिक है और इससे आप बाइसेक्सुअल नहीं बन जाते. मैं समलैंगिक हूं, हालांकि, कई बार ऐसा होता है जब मुझे अपनी कुछ महिला मित्रों को गले लगाने की ख्वाहिश होती है, लेकिन मैं इससे बाइसेक्सुअल या स्ट्रेट नहीं बन जाता. इसका सिर्फ इतना मतलब है कि मेरा दिल उन लोगों के लिए धड़कता है, जो मुझे पसंद हैं और मैं इसे शारीरिक स्पर्श के साथ व्यक्त करना चाहता हूं.

अपने पुरुष मित्र से प्यार जारी रखें. अगर आपके बीच स्वाभाविक रूप से सेक्स संबंध बन जाते हैं, तो खुद को रोकें मत. अपने शरीर को वैसा महसूस करने दें जैसा यह महसूस करता है. अपने दिमाग को आराम दें.

मुस्कुराइए,

रेनबोमैन.

अंतिम बात: मेरी ख्वाहिश है कि आपको और अधिक प्यार मिले.

‘मेरी सहेलियां मुझे वेश्या कहती हैं’

आपके दोस्तों के विचार आपको परिभाषित नहीं करते हैं
आपके दोस्तों के विचार आपको परिभाषित नहीं करते हैं
(फोटो:iStock)

प्रिय रेनबोमैन,

मैं एक कॉलेज में पढ़ने वाली 22 वर्षीय छात्रा हूं. पिछले 3 साल में 3 पुरुषों के साथ रिलेशनशिप में रहने के कारण मुझे वेश्या कह कर पुकारा गया. मुश्किल यह है कि मुझे लड़कियों ने भी वेश्या कह कर मुझ पर लानतें भेजीं. मेरे कॉलेज में लड़कियां मुझे एक किस्म की वेश्या समझती हैं. वो मेरे बारे में कहती हैं कि ‘वह यहां नहीं है, शायद कहीं चूस रही होगी.’ उन्हें नहीं पता कि ईमानदारी से उन पर भरोसा कर बताई गई बातों को लेकर मेरे बारे में ऐसी बातें करने से मुझे कितनी तकलीफ होती है. मैं सोचती हूं कि क्या मैंने 3 पुरुषों के प्यार में पड़कर गलत किया है और क्या मुझे पूरी जिंदगी इसकी कीमत चुकानी होगी. मेरी मदद करें. मुझे लगता है मैं अपनी जिंदगी खत्म कर लूंगी.

निराश लड़की

प्रिय निराश लड़की,

सबसे पहली बात सबसे पहले- आपके दोस्तों के विचार आपको परिभाषित नहीं करते हैं. हमारे पास कई लोगों के बारे में कई तरह की राय हो सकती है, लेकिन यह वास्तव में आपको परिभाषित नहीं करती है या तय नहीं करती कि आप कौन हैं.

जब हम किसी से अपनी बातें साझा करते हैं, तो लोग हमारे बारे में राय बनाते हैं. हम दूसरे की बातों से राय बनाते हैं. कुछ इसे फैलाते हैं, कुछ इसे अपने तक सीमित रखते हैं. जो लोग अपने तक सीमित रखते हैं, वे भरोसा किए जाने के लिए पर्याप्त परिपक्व होते हैं. जो लोग सर्वश्रेष्ठ नहीं हैं, उनसे पीछा छुड़ा लिया जाता है.

मैं आपको सिर्फ यह समझाना चाहता हूं कि अगर आप किसी के साथ हमबिस्तर होते हैं या एक से अधिक पार्टनर के साथ रिश्ते में हैं, तो इससे आपका चरित्र खराब नहीं हो जाता है. कोई शख्स तब दुष्चरित्र है अगर किसी को नीचा दिखाने के लिए उन रहस्यों को दूसरों को बताता है, जिन्हें उसके दोस्त ने भरोसा कर उसको बताया था.

हमारी इज्जत किसी के साथ सेक्स करने से खराब नहीं होती है. या इस बात से नहीं कि आप कितने लोगों के साथ रिलेशनशिप में रहे हैं. आपके रिलेशनशिप आपके व्यक्तित्व का सिर्फ एक हिस्सा हैं, आपका पूरा व्यक्तित्व नहीं. जैसा कि आपने बताया कि कभी-कभी आपका मन सब कुछ खत्म कर देने का होता है, तो इसके लिए मेरा आग्रह है कि आप किसी काउंसलर से मिलें. जैसे हम बुखार होने पर डॉक्टर को दिखाते हैं, हमें अपनी मानसिक समस्याओं के लिए काउंसलर को दिखाना जरूरी है. कृपया पता लगाएं और खुद के लिए काउंसलर ढूंढें. इन भावनाओं को नजरअंदाज न करें, इसे गंभीरता से लें.

झप्पी के साथ,

रेनबोमैन.

अंतिम बात: काउंसलर से अप्वाइंट लें- अभी!

‘मैं और ज्यादा मर्दाना दिखना चाहता हूं’

प्रिय रेनबोमैन,

मुझे लगता है कि मैं बहुत ज्यादा लड़कियों जैसा दिखता हूं. मुझे नहीं पता कि मुझे अधिक मर्दाना बनने के लिए क्या करना चाहिए. मैं अभी 17 साल का हूं और हर कोई मुझे चिढ़ाता है. कृपया मुझे बताएं.

चिंतित लड़का

प्रिय चिंतित लड़के,

मुझ पर भरोसा करने के लिए धन्यवाद. मैं समझता हूं कि आपकी क्या परेशानी है और चिढ़ाए जाने व शर्मिंदा होने की भावना को भी समझ सकता हूं.

मैं आपसे कहना चाहूंगा कि आप जैसे हैं, खुद को उस रूप में स्वीकार करें, लेकिन मुझे पता है कि ऐसे समय में इन शब्दों का कोई अर्थ नहीं है, जब आप पर जो आप हैं, उस वजह से हमला किया जा रहा है.

आपको पता होना चाहिए कि आप में ऐसा कुछ भी नहीं है, जिसे आपको लोगों की मर्दानापन की सोच के साथ बदलने की जरूरत है. लोगों को एक समस्या होगी और वो आप में समस्याएं ढूंढना शुरू कर देंगे. आपको उनकी सोच के हिसाब से कभी भी खुद को बदलने की जरूरत नहीं है.

आप अलग हैं और अलग होना आसान नहीं होता. लेकिन खास है, अलग होना. अलग होना चुनौतियों के साथ आता है. अंत में आपकी जीत होगी, आप जीतेंगे.

मैं चाहता हूं कि आप एक काउंसलर से मिलें. किसी से खुद जाकर मिलें. अगर आप मुझसे बात करना चाहते हैं, तो एक मेल भेज दें और मैं आपको व्यक्तिगत रूप से किसी से मिला दूंगा.

सादर,

रेनबोमैन

अंतिम बातः आप जैसे भी हैं, अच्छे हैं और दुनिया को ऐसे ही आपको अपनाने दें.

(FIT अब वाट्स एप पर भी उपलब्ध है. अपने पसंदीदा विषयों पर चुनिंदा स्टोरी पढ़ने के लिए हमारी वाट्स एप सर्विस सब्सक्राइब कीजिए. यहां क्लिक कीजिए और सेंड बटन दबा दीजिए.)

(लोगों की पहचान सुरक्षित रखने के लिए नाम और कुछ ब्योरे बदल दिए गए हैं. आप भी अपने सवाल sexolve@thequint.com पर भेज सकते हैं.)

(हरीश अय्यर एलजीबीटी समुदाय, महिलाओं, बच्चों और जानवरों के अधिकारों के लिए काम करने वाले समान अधिकार एक्टिविस्ट हैं.)

Follow our सेक्सॉल्व section for more stories.