सेक्सॉल्व: ‘मेरा पति कभी मुझसे अंतरंग नहीं हुआ, क्या वो गे है?’
‘आखिरकार मैंने अपने उस पति को छोड़ दिया जो कभी भी मेरे साथ अंतरंग नहीं था.’
‘आखिरकार मैंने अपने उस पति को छोड़ दिया जो कभी भी मेरे साथ अंतरंग नहीं था.’(फोटो: iStock)

सेक्सॉल्व: ‘मेरा पति कभी मुझसे अंतरंग नहीं हुआ, क्या वो गे है?’

सेक्सॉल्व समता के अधिकार के पैरोकार हरीश अय्यर का फिट पर सवाल-जवाब आधारित कॉलम है.

अगर आपको सेक्स, सेक्स के तौर-तरीकों या रिलेशनशिप से जुड़ी कोई परेशानी है, कोई उलझन है, जिसे आप हल नहीं कर पा रहे हैं, या आपको किसी तरह की सलाह की जरूरत है, किसी सवाल का जवाब चाहते हैं या फिर यूं ही चाहते हैं कि कोई आपकी बात सुन ले- तो हरीशअय्यर को लिखें, और वह आपके लिए ‘सेक्सॉल्व’ करने की कोशिश करेंगे. आप sexolve@thequint.com पर मेल कर सकते हैं.

पेश हैं इस हफ्ते के सवाल-जवाबः

‘मेरा पेनिस बहुत छोटा है, क्या मैं बाप बन पाऊंगा?’

डियर रेनबोमैन,

मैं 25 वर्षीय पुरुष हूं, मैं दक्षिण भारत से हूं और अब यूएस में बस गया हूं. सेक्स को लेकर मेरे कुछ सवाल हैं और मुझे पक्का नहीं है कि ये वास्तविक समस्याएं हैं भी या नहीं. मेरे पास आपसे साझा करने के लिए तीन बातें हैं.

  • जब कभी भी मैं अपने पेनिस को देखता हूं तो इसके आकार के कारण, जो लगभग 4.1 इंच है, बहुत बुरा लगता है. खासकर, जब मैं पोर्न फिल्मों के हीरो से तुलना करता हूं. मुझे डर है कि मैं शादी के बाद अपनी पत्नी को संतुष्ट कर पाऊंगा या नहीं. क्या मैं बाप बन पाऊंगा या नहीं?
  • मैं महीने में सिर्फ दो बार मास्टरबेशन करता हूं. क्या यह खराब है और क्या मुझे यह बंद कर देना चाहिए? क्या यह मेरे भविष्य के सेक्स जीवन को प्रभावित करेगा और क्या मेरे छोटे पेनिस का कारण मास्टरबेशन है?
  • अंतिम जरूरी बात. मुझे महिलाओं की बजाए शी-मेल्स ज्यादा पसंद हैं. मैं एनल सेक्स पसंद करता हूं और उनके पैरों से भी उत्तेजित हो जाता हूं. मैं उनके पेनिस का खास शौकीन नहीं हूं. मुझे क्रॉस-ड्रेसर भी पसंद हैं, जो महिला की तरह दिखते हैं. मेरी पुरुषों में कोई दिलचस्पी नहीं है और ही पुरुषों को पसंद करता हूं. तो, क्या इसका यह मतलब है कि मैं समलैंगिक बन रहा हूं?

जितना जल्द हो सके मेरी मदद करें. शुक्रिया.

सादर

परेशान युवक

(फोटो: iStock)

डियर परेशान युवक,

मुझ अजनबी पर इतना बड़ा भरोसा करने के लिए बहुत-बहुत शुक्रिया. आपने अपनी परेशानी मेरे साथ साझा की. एक-एक कर आपके सभी सवालों का जवाब देने की कोशिश करता हूं.

अपने पेनिस के आकार के बारे में आपके पहले सवाल का जवाब देते हुए, सबसे पहले मैं यह बताना चाहूंगा कि अच्छा होगा कि आप किसी सेक्सोलॉजिस्ट से बात करें. हालांकि, पुरुषों केसाथ सेक्सुअली एक्टिव रहने के तजुर्बे से मैं कह सकता हूं कि जब आप किसी के साथ सेक्सुअल संबंध बनाते हैं तो अक्सर टेकनीक मायने रखती है, न कि साइज. इसके साथ ही, पेनिट्रेटिव सेक्स के अलावा पार्टनर को संतुष्ट करने के कई दूसरे तरीके हैं. कामसूत्र में कई आसन बताए गए हैं. सभी में पेनाइल पेनिट्रेशन (प्रवेश) शामिल नहीं है.

मास्टरबेशन के बारे में आपके सवाल के बारे में कहना चाहता हूं कि, केवल तभी मास्टरबेशन करें जब आप इसकी जरूरत महसूस करें. आप इसलिए मत करें क्योंकि आपको ये करना है क्योंकि आपको वास्तव में इसकी जरूरत नहीं है. हालांकि, एक स्खलन में लाखों स्पर्म होते हैं और स्पर्म को फिर से बहाल करने के लिए एक सामान्य शरीर को औसतन लगभग 24-36 घंटे लगते हैं. लाखों में से एग को निषेचित करने के लिए सिर्फ एक स्पर्म की जरूरत होती है. उम्मीद है कि आपने अपने मन में यह बात ध्यान से बिठा ली होगी.

अब आपके तीसरे सवाल पर आते हैं. हम अक्सर खुद को गे, बाई सेक्सुअल और स्ट्रेट के खानों में रखना चाहते हैं. हम इन खानों में फिट होने के लिए अपने सेक्स बर्ताव का विश्लेषण और गहरा-विश्लेषण करते हैं. सच्चाई यह है कि आप ट्रांस-वुमेन और क्रॉस-ड्रेसर पसंद करते हैं (ये सही शब्द हैं- शी-मेल अपमानजनक संबोधन है) या तथ्य यह है कि आप एक फुट-फेटिशऔर एनल सेक्स पसंद करने वाले शख्स हैं. लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आपको अपने आप खुद को समलैंगिक या बाई-सेक्सुअल मानना शुरू कर दें.

हमारे आकर्षण सांसारिक परिभाषाओं से परे हैं. आपको यह जानना इत्मीनान दे सकता है कि आप एक निश्चित खाने के भीतर कहीं हैं, लेकिन आपको खुद को जरूरी तौर पर किसी खाने में रखने की जरूरत नहीं है. आपका आकर्षण सिर्फ आपकी पसंद है. मेरा सुझाव है कि आप खुद पर समलैंगिक या स्ट्रेट या किसी दूसरी तरह का ठप्पा लगाने की कोशिश ना करें.

आप बेहतर पाएंगे. सब ठीक हो जाएगा. ऐसा हमेशा होता है, जब हम जैसे हैं खुद को वैसा स्वीकार कर लेते हैं और खुद के साथ हमेशा लड़ना छोड़ देते हैं.

मुस्कान के साथ
रेनबोमैन

अंतिम बात: अपने लिए और अच्छा चाहते हैं तो समय लेकर एक क्वालिफाइड सेक्सोलॉजिस्ट से मिलें.

‘मेरा पति कभी मेरे साथ अंतरंग नहीं हुआ, क्या वह समलैंगिक है?’

डियर रेनबोमैन,

मैं 32 वर्षीय महिला हूं, जिसकी एक 33 वर्षीय व्यक्ति से शादी हुई, जो कि स्ट्रेट लगता है. लेकिन मुझे शादी से पहले से ही उसके बारे में कुछ बातें अजीब लगती थीं. हालांकि, उसे जानने के लिए बहुत कम वक्त मिला क्योंकि हमारी चट मंगनी पट ब्याह का मामला था.

हमारी शादी के बाद, पहली रात को उसने टीवी पर देर तक कॉमेडी सर्कस देखा, जिसका वह बहुत बड़ा फैन है. वह इसे देखते हुए सोफे पर ही सो गया.

बाद में हनीमून पर भी उसने हमारे शेड्यूल में ढेर सारे आउटडोर कार्यक्रम शामिल कर दिए, जिससे हमें होटल में जाने और समय बिताने का मौका ही नहीं मिला. मुझे यह बहुत अजीब लगा और मैंने इस बारे में उससे पूछा, तो उसने मुझसे सिर्फ इतना कहा कि उसे लगता है कि हमारे बीच सब कुछ सामान्य है (जो कि नहीं था).

मैं एक डॉक्टर से भी मिली और अपने पति के एकाकी रहने के बारे में सारी बातें बताई और कहा कि वह मुझे छूता भी नहीं या बात भी नहीं करता है, वह बिना किसी अंतरंगता या रोमांस के एकदम यांत्रिक तरीके से सीधे पेनिट्रेटिव सेक्सुअल इंटरकोर्स करता है.

डॉक्टर इस नतीजे पर पहुंचे कि उसे प्रीएपिज़्म ( लगातार पेनिस इरेक्शन और दर्द) की समस्या हो सकती है.

लेकिन मुझे पक्का नहीं है कि उसे प्रीएपिज़्म है या वह समलैंगिक है?

हमारे रिश्तों में तेजी से खटास बढ़ती गई और चूंकि उसने अपनी समस्याओं को स्वीकार करने या सुधारने की कोई पहल नहीं की, मैंने आखिरकार उसे छोड़ दिया. हालांकि वह अभी भी साथ रहने की जिद कर रहा है. वह चाहता है कि मैं उसके परिवार की सेवा के लिए वापस लौट आऊं. वह अपनी खुशहाल शादी की इमेज को बनाए रखना चाहता है.

लेकिन मैं उसके पास कतई वापस नहीं जाना चाहती, खासकर जबकि मुझे पता है कि उसने मुझे धोखा दिया और मेरी मासूमियत का गलत इस्तेमाल किया है और आगे भी करेगा. अब वह ऐसा बर्ताव कर रहा है मानो कुछ भी नहीं हुआ है और मुझ पर झूठी तोहमत लगाने की शिकायत कर रहा है.

उसका परिवार भी कहीं से एक सर्टिफिकेट ले आया जो बताता है कि वह सामान्य स्ट्रेट पुरुष है. लेकिन मैं पक्के तौर पर इस तथ्य को जानती हूं कि वह ऐसा नहीं है.

कृपया यह समझने में मेरी मदद करें कि वह क्या हो सकता है. शुक्रिया.

सादर

जवाब तलाशती महिला

(फोटो: iStock)

डियर महिला,

मुझे पता है कि जब प्यार और स्नेह सब दिखावा लगने लगते हैं, तो यह हमें अंदर से पूरी तरह तोड़ देता है. 

आधे-अधूरे मन से सेक्स करना, किसी तरह का शारीरिक संबंध नहीं रखने से भी बदतर है. इसलिए बात करना और यह बताना बहुत जरूरी है कि आप वास्तव में क्या महसूस करते हैं, खासकर जब यह शारीरिक अंतरंगता का मामला हो.

आपकी मेल के अनुसार, मैं समझ सका हूं कि आपके पति ने यह नहीं बताया कि वह क्या महसूस कर रहा था, यहां तक कि जब आपने उससे पूछा था और संभवत: उसकी समस्याओं (अगर उसके पास कोई भी समस्या रही हो) से निपटने में उसकी मदद की कोशिश भी की होगी. आपने कोशिश की, और जब उसने आपकी बातों पर कोई ध्यान नहीं दिया या किसी मनोवैज्ञानिक या चिकित्सा परामर्श नहीं मानी, तो उसे छोड़ दिया. मेरी ईमानदार राय में आपने सही काम किया.

आपको उसकी सामाजिक छवि बचाने के लिए उसके पास लौटने की जरूरत नहीं है. आपको अपनी गरिमा के लिए अपने फैसले पर कायम रहने की जरूरत है. 

आपने अपने लिए प्रतिरोध कर कुछ भी गलत नहीं किया है. आपने अपनी तरफ से कोशिश की थी.

मैं उसके सेक्सुअल झुकाव या उसकी मेडिकल दशा पर टिप्पणी नहीं कर सकता, हालांकि, मैं ऐसे लोगों के बारे में जानता हूं जो स्ट्रेट हैं और जो किसी भी तरह से प्यार-दुलार या अंतरंग नहीं होते और सीधे सहवास करना चाहते हैं.

चाहे वह प्रीएपिज़्म की मेडिकल कंडीशन हो जहां पेनिस घंटों तक इरेक्ट रहता है, या यह उसका सेक्सुअल झुकाव हो जिसे वह शायद छुपा रहा था, यह सभी बातें सारहीन हैं. आपको उसकी तरफ से खुले दिल से बातचीत करने का मौका नहीं मिला, इसलिए आपने उसे छोड़कर सही काम किया.

अगर वह समलैंगिक है, तो सबसे पहले तो उसे आपसे शादी नहीं करनी चाहिए थी. हम कह सकते हैं कि उसके माता-पिता की तरफ से शादी का दबाव था, लेकिन आपके नजरिये से देखें तो, यह आपके साथ गलत हुआ. आप सच जानने की हकदार थीं. यहां तक कि अगर आपको पता भी चल जाता है कि वह समलैंगिक है, तो ऐसा नहीं है कि आप उसके पास वापस लौट जाएंगी, इसलिए इससे क्या बदल जाएगा.

मैं समझता हूं कि आप उसके परिवार की जिद से दबाव में हैं, लेकिन सच्चाई का पता लगाने की जिम्मेदारी आपकी नहीं है. इसका बोझ खुद पर न डालें. मुझे पता है कि ऐसा जीवन जीना मुश्किल है, जिसमें आपको दोषी ठहराया जाता है और आपको गलत समझा जाता है- लेकिन सबसे बड़ा एक सार्थक तर्क यह है कि आपने उसकी सेक्सुअलटी को लेकर सबसे पहले सीधे उसी से पूछा था.

आपके सामने विकल्प हैं- वह आपसे इस मुद्दे पर चर्चा करता है, या वह हमेशा के लिए आपसे दूर हो जाता है- मेरा सुझाव है कि आप उसे कोई तीसरा विकल्प न दें.

मुस्कान के साथ

रेनबोमैन

अंतिम बात: चीजें बेहतर हो जाती हैं. कभी-कभी वे समय लेती हैं, लेकिन आखिरकार बेहतर हो जाती हैं.

‘मैं केवल उम्रदराज पुरुषों के प्रति आकर्षित होती हूं’

डियर रेनबोमैन,

मैं 22 साल की लड़की हूं और मैं केवल 40 साल से ऊपर की उम्र के पुरुषों की ओर आकर्षित होती हूं. मेरा कभी यौन शोषण नहीं हुआ है और मैं कुंवारी हूं. मैं सोचती हूं क्या मैं पाप कर रही हूं?

पापी लड़की

डियर लड़की,

हमारे यौन आकर्षण कई चीजों से तय होते हैं. यौन शोषण या पिछली सेक्सुअल गतिविधियां इसमें एक प्रमुख कारक हो सकते हैं या नहीं भी हो सकते हैं. तो इस सवाल से खुद को सजा मत दें.

प्यार पाप नहीं है. आकर्षण पाप नहीं है और जहां तक सेक्स सहमति से है और एक बालिग के साथ है, यह पाप नहीं है.

मुस्कान के साथ,

रेनबोमैन

अंतिम बातः प्यार की कोई उम्र नहीं होती (कम से कम मैं तो ऐसा ही सोचता हूं.)

(लोगों की पहचान सुरक्षित रखने के लिए नाम और कुछ ब्योरे परिवर्तित कर दिए गए हैं. आप भी अपने सवाल sexolve@thequint.com पर भेज सकते हैं.)

(हरीश अय्यर एलजीबीटी कम्युनिटी, महिलाओं, बच्चों और जानवरों के अधिकारों के लिए काम करने वाले समता के अधिकार के एक्टिविस्ट हैं.

Follow our सेक्सॉल्व section for more stories.