जानिए मिर्गी से जुड़े कुछ भ्रमों की सच्चाई

जानिए मिर्गी से जुड़े कुछ भ्रमों की सच्चाई

फिट माइंड

मिर्गी दुनिया भर में सबसे आम न्यूरोलॉजिकल बीमारियों में से एक है. मिर्गी के कुल मरीजों में से 80 फीसदी मरीज विकासशील देशों में हैं. मिर्गी से जुड़े कई भ्रम आम लोगों के बीच प्रचलित हैं, जिसके कारण मिर्गी के करीब तीन चौथाई मरीज इलाज से दूर रह जाते हैं.

क्या है मिर्गी?

मिर्गी एक न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है, जिसमें मरीज के दिमाग की कोशिकाओं (न्यूरॉन्स) में अचानक असामान्य तरंगें पैदा होने लगती हैं, जिससे उसे दौरा पड़ता है और मरीज बेहोश हो जाता है. ये बीमारी किसी भी उम्र में हो सकती है और हर उम्र के मरीजों को अलग-अलग परेशानी हो सकती है.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के मुताबिक दुनिया भर में करीब 5 करोड़ लोग मिर्गी से पीड़ित हैं, जिनमें से 80% मरीज विकासशील देशों के हैं. भारत में मिर्गी के करीब 1 करोड़ मरीज हैं.

ये भी पढ़ें : क्या कैंसर और मिर्गी के इलाज में हो सकता है भांग का इस्तेमाल?

इंडियन एपिलेप्सी एसोसिएशन ने मिर्गी से जुड़े कई भ्रम और उनकी हकीकत के बारे में बताया है.

मिथ : मिर्गी बुरी शक्तियों के कारण होती है, इसलिए इसके इलाज में झाड़-फूंक की जरूरत होती है.

तथ्य: मिर्गी न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है और इसके इलाज के लिए दवाएं हैं.

मिथ: मिर्गी एक पागलपन है और इसका इलाज पागलखाने में होना चाहिए.

तथ्य: मिर्गी पागलपन नहीं बल्कि दिमाग की एक बीमारी है और न्यूरोलॉजिस्ट इसका इलाज करते हैं.

मिथ: मिर्गी संक्रामक है, मिर्गी का दौरा पड़ते वक्त मरीज को छूने वाले व्यक्ति को भी दौरे पड़ने लगते हैं.

तथ्य: मिर्गी संक्रामक बीमारी नहीं है, मरीज को छूने से नहीं फैलती है.

मिथ: मिर्गी का दौरा पड़ने पर मरीज को हाथ में चाबी देने या प्याज सुंघाने से झटका रुक जाता है.

तथ्य: मिर्गी का अटैक इन चीजों से नहीं बल्कि कुछ देर में खुद रुकता है. इसलिए जब तक मरीज सामान्य न हो जाए, उसके पास रहना चाहिए.

मिथ: मिर्गी की बीमारी ठीक नहीं होती.

तथ्य: करीब 75% मरीजों को मिर्गी के अटैक से राहत मिल जाती है. ज्यादातर मरीज पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं और उन्हें फिर दवा की भी जरूरत नहीं पड़ती. सर्जरी के जरिए भी मिर्गी ठीक हो जाती है.

मिथ: मिर्गी के अटैक के दौरान मरीज के मुंह में चम्मच डालना चाहिए.

तथ्य: अटैक के दौरान मरीज के मुंह में कुछ भी नहीं डालना चाहिए. इससे मरीज के दांत या मसूढ़े डैमेज हो सकते हैं. 

मिथ: मिर्गी सिर्फ बच्चों को होती है.

तथ्य: मिर्गी किसी भी उम्र में हो सकती है.

Follow our फिट माइंड section for more stories.

फिट माइंड