गर्भधारण से लेकर मुहांसे तक: हस्तमैथुन के बारे में 10 मिथकों का सच
हस्तमैथुन को कई सेक्स हेल्थ विशेषज्ञों द्वारा हेल्दी माना जाता है.
हस्तमैथुन को कई सेक्स हेल्थ विशेषज्ञों द्वारा हेल्दी माना जाता है. (फोटो: iStockphoto)

गर्भधारण से लेकर मुहांसे तक: हस्तमैथुन के बारे में 10 मिथकों का सच

इस बारे में एक आम चुटकुला कहा जाता है, अगर 98 प्रतिशत लोग कहते हैं कि वे हस्तमैथुन करते हैं तो बाकी 2 फीसद झूठ बोल रहे हैं. हस्तमैथुन या मास्टरबेशन से जुड़ी शर्म कई मिथकों और गलत धारणाओं को जन्म देती है, जिनमें नजर कमजोर होने, मुहांसे, बांझपन से लेकर गर्भधारण तक शामिल है.

इस मुद्दे पर बमुश्किल ही कभी बात होती है. इसलिए स्वाभाविक रूप से हममें से बहुतों के मन में ये सवाल रहता है कि ये मिथक सच हैं या नहीं.

Loading...

मास्टरबेशन से जुड़े मिथ

यहां हम हस्तमैथुन से जुड़े 10 सबसे आम मिथकों को दूर करेंगे.

मिथ 1: हस्तमैथुन करने से आप गर्भवती हो जाएंगी

नहीं, आप हस्तमैथुन के जरिये गर्भवती नहीं होंगी! 
नहीं, आप हस्तमैथुन के जरिये गर्भवती नहीं होंगी! 
(फोटो: iStockphoto)

यह मिथक खासतौर से नौजवानों के बीच आम है. सेक्स एजुकेशन की कमी जोश मारते हार्मोन के साथ मिलकर अक्सर इस तरह के सवालों को जन्म देती है. लेकिन नहीं, आप हस्तमैथुन के जरिये गर्भवती नहीं हो सकती हैं.

आपके गर्भवती होने के लिए, पुरुष स्पर्म को वेजाइना के माध्यम से आपके शरीर में प्रवेश करना होगा और एग्स को निषेचित करना होता है, जो बाद में गर्भाशय में अंतःस्थापित हो जाएगा जिससे गर्भधारण हो जाएगा.

मिथ 2: हस्तमैथुन आपको नपुंसक बना देगा

पुरुषों के बीच चर्चित एक और मिथक है, जो मानते हैं कि बहुत ज्यादा हस्तमैथुन करने से स्पर्म की संख्या कम हो जाएगी. असल में यह असत्य है. हस्तमैथुन का आपकी प्रजनन क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है.

हालांकि, बहुत अधिक मात्रा में हस्तमैथुन आपके स्पर्म की संख्या पर असर डाल सकता है.

बहुत ज्यादा हस्तमैथुन बाद की जिंदगी में आपके स्पर्म की संख्या को कम कर सकता है और यह थोड़े समय के लिए आपको थकावट का एहसास कराता है. इसलिए यह रोजाना करने से बचना बेहतर है और अन्य रोजमर्रा की गतिविधियों या अपने कामकाज पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करनी चाहिए.
डॉ राजिंदर यादव, निदेशक- यूरोलॉजी, एंड्रोलॉजी एंड किडनी ट्रांसप्लांट, फोर्टिस अस्पताल, शालिमार बाग

लेकिन यह असर अस्थायी है. और ज्यादातर पुरुषों में पिछले स्खलन के 12 से 24 घंटे बाद स्पर्म की एक अच्छी संख्या पुन: पैदा हो जाती है.

मिथ 3: हस्तमैथुन आपके जननांग को नुकसान पहुंचाता है

यह एक और बेहद आम मिथक है, जो कि वास्तव में झूठ है. हस्तमैथुन में आपके जननांग को उत्तेजित करना शामिल है और इस प्रक्रिया में उसे नुकसान पहुंचने की आशंका बेहद कम है, बशर्ते कि आप कुछ बहुत ज्यादा गलत नहीं करते हैं.

हालांकि, अगर आप बहुत जोरदार तरीके से हस्तमैथुन करते हैं, तब भी मामूली खिंचाव या जलन हो सकती है, यहां तक कि ऐसे मामलों में भी नुकसान की भरपाई नहीं की जा सकने लायक नहीं है, लेकिन यह कुछ समय के लिए छोड़ देना सबसे बेहतर है. आप खिंचाव या जलन से बचने के लिए लुब्रिकेंट का भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

मिथ 4: हस्तमैथुन से सेक्शुअली ट्रांसमिटेड डिजीज होते हैं

हस्तमैथुन संक्रमण या बीमारियों का कारण नहीं बन सकता, जब तक कि आप जिन वस्तुओं के साथ हस्तमैथुन कर रहे हैं वे गंदे नहीं हैं.
हस्तमैथुन संक्रमण या बीमारियों का कारण नहीं बन सकता, जब तक कि आप जिन वस्तुओं के साथ हस्तमैथुन कर रहे हैं वे गंदे नहीं हैं.
(फोटो: iStockphoto)

आम धारणा के उलट, हस्तमैथुन करने पर आपको एसटीडी (सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज) नहीं मिलेगी.

एसटीडी खून, स्किन से स्किन के संपर्क, मां से बच्चे (स्तनपान से) को और सेक्सुअल फ्ल्यूड्स के आदान-प्रदान से फैलती है. हालांकि, हस्तमैथुन संक्रमण या बीमारियों का कारण नहीं बन सकता, जब तक कि आप जिन वस्तुओं के साथ हस्तमैथुन कर रहे हैं वे गंदे नहीं हैं.

मिथक 5: हस्तमैथुन से मुहांसे होते हैं

दाने और कील-मुहांसे हस्तमैथुन की वजह से नहीं होते हैं
दाने और कील-मुहांसे हस्तमैथुन की वजह से नहीं होते हैं
(फोटो: iStockphoto)

कई गलत धारणाएं हस्तमैथुन को मुहांसे से जोड़ती हैं, लेकिन यह सच के करीब नहीं है. दाने और कील-मुहांसे हस्तमैथुन की वजह से नहीं होते हैं और मुख्यतः हार्मोंस पर निर्भर करते हैं.

इन दोनों को हस्तमैथुन से इसलिए जोड़ा जाता है क्योंकि मुहांसे आमतौर पर अक्सर युवावस्था के दौरान होते हैं और इस अवधि के दौरान ही किशोर अपने शरीर को समझने की कोशिश कर रहे होते हैं.

मिथक 6: हस्तमैथुन से नजर कमजोर होती है

यह मिथक शायद सबसे हास्यास्पद है, फिर भी सबसे आम है. हस्तमैथुन और नजर कमजोर होने के बीच किसी संबंध का कोई सबूत नहीं है. हस्तमैथुन वास्तव में आपके शारीरिक, मानसिक और सेक्शुअल हेल्थ के लिए बेहद फायदेमंद है.

मिथक 7: हस्तमैथुन मेंटल हेल्थ को नुकसान पहुंचाता है

हस्तमैथुन का हमारे मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ता है, लेकिन यह असर नकारात्मक कतई नहीं है. विशेषज्ञों के अनुसार तनाव और चिंता से मुक्ति पाने के लिए हस्तमैथुन बहुत अच्छा है.

हस्तमैथुन से आपकी मेंटल हेल्थ पर पड़ने वाला कोई भी खराब असर अपराधबोध का होता है, जो कि हस्तमैथुन से जुड़ी शर्म और इसे लेकर मन में बसी सोच के साथ आता है कि यह बुरा है, हालांकि यह सच नहीं है.

फिट के साथ पहले की एक बातचीत में, यूके में रहने वाले लेखक और मनोचिकित्सक लुसी बेरेसेफोर्ड, जो नियमित रूप से लिखने के साथ, सेक्सुअल हेल्थ और रिलेशनशिप पर एक रेडियो शो भी करते हैं, ने कहा था:

रोजना हस्तमैथुन करना पूरी तरह ठीक है. यह एक शानदार आत्म-शांति पाने और तनाव को दूर करने का एक अच्छा तरीका है.

मिथ 8: अगर आप एक प्रतिबद्ध रिलेशनशिप में हैं तो हस्तमैथुन करना गलत है

किसी के साथ रिलेशनशिप में रहने के दौरान हस्तमैथुन करने में कुछ भी गलत नहीं है. असल में, ये आपको यह पहचानने में मदद कर सकता है कि आप किस चीज में सहज हैं और आपको अपने पार्टनर के साथ क्या करने में मजा आता है.

एक दूसरे के साथ हस्तमैथुन भी एक ऐसी चीज है, जो एक रिलेशनशिप में स्वस्थ है.

मिथक 9: हस्तमैथुन आपको विकृत बनाता है

हस्तमैथुन शायद सबसे सामान्य चीजों में से एक है और यह आपको विकृत नहीं बनाता है. हस्तमैथुन हेल्दी है और एक बेहद निजी चीज है.

इसलिए, जब तक आप अपने आसपास के लोगों के लिए परेशानी नहीं पैदा कर रहे हैं, तब तक हस्तमैथुन बिल्कुल सामान्य है.

मिथ 10: हस्तमैथुन आपकी सेहत या आपके लिए खराब है

हस्तमैथुन वास्तव में आपके लिए स्वास्थप्रद है. आनंद के एहसास के साथ ही हस्तमैथुन आपके तनाव को कम करने में मदद कर सकता है, माहवारी में ऐंठन को कम कर सकता है और आप एक हेल्दी सेक्स लाइफ जी सकते हैं.

हस्तमैथुन आपके शरीर और आपकी सेक्सुअल जरूरतों और ख्वाहिशों का पता लगाने का एक शानदार तरीका है.

हस्तमैथुन आपके शरीर और आपकी सेक्सुअल जरूरतों और ख्वाहिशों का पता लगाने का एक शानदार तरीका है.
हस्तमैथुन आपके शरीर और आपकी सेक्सुअल जरूरतों और ख्वाहिशों का पता लगाने का एक शानदार तरीका है.
(फोटो: iStockphoto)

बदकिस्मती से, इन मिथकों को अनगिनत मौकों पर खारिज कर दिए जाने के बावजूद, इससे जुड़ी शर्म के कारण ये समय-समय पर हमारे सामने उठ खड़े होते हैं. न केवल आनंद के पहलू के कारण बल्कि इसके कई स्वास्थ्य लाभों के कारण भी हस्तमैथुन को सामान्य समझना बेहद जरूरी है.

हस्तमैथुन के बारे में किसी तरह की समस्या या स्पष्टता की जरूरत होने पर आपको हमेशा प्रोफेशनल्स से बात करनी चाहिए.

ये भी पढ़ें : सेक्स पर बात: क्या मुड़ा हुआ पेनिस होना कोई बीमारी है?

Follow our सेक्स की बात section for more stories.

    Loading...