क्या दिल की बीमारियों से बचाता है खाने में सरसों का तेल?

क्या दिल की बीमारियों से बचाता है खाने में सरसों का तेल?

ये दिल

अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने इस दावे को सही माना है कि खाद्य तेलों (एडिबल ऑयल्स) में ओलेइक एसिड दिल की बीमारियां होने का जोखिम घटा सकता है.

ओलेइक एसिड मोनोअनसैचुरेटेड फैट है, जिसे सैचुरेटेड फैट्स से भरपूर तेलों की जगह लेने से दिल के रोगों का खतरा कम हो सकता है.

ये हैं ओलेइक एसिड वाले तेल

  • ऑलिव ऑयल यानी जैतून का तेल
  • सनफ्लावर ऑयल यानी सूरजमुखी का तेल
  • कैनोला ऑयल
  • मस्टर्ड ऑयल यानी सरसों का तेल
  • मूंगफली का तेल
  • सोयाबीन का तेल
रोजाना एक चम्मच ओलेइक एसिड से भरपूर तेल दिल के लिए अच्छा हो सकता है, लेकिन इसके साथ कैलोरी की कुल मात्रा को सीमित रखना भी जरूरी है.

विशेषज्ञ डाइट में कई तरह के तेल नियंत्रित मात्रा में इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं.

ओलेइक एसिड खाद्य तेलों के अलावा और भी कई चीजों में प्राकृतिक रूप से पाया जाता है. जैसे मीट, चीज़, मेवे, सूरजमुखी के बीज, अंडे, दूध और एवोकाडो.

ये भी पढ़ें : क्या हैं जैतून के फल और तेल के फायदे?

Follow our ये दिल section for more stories.

ये दिल