WebQoof: क्या वाकई में ‘हार्ट ब्लॉकेज’ ऐसे ठीक कर सकते हैं?

WebQoof: क्या वाकई में ‘हार्ट ब्लॉकेज’ ऐसे ठीक कर सकते हैं?

ये दिल

कैमरा- सुमित बडोला, शिव कुमार मौर्या

एडिटर- दीप्ति रामदास

क्या हार्ट ब्लॉकेज को सिर्फ किसी एक्सरसाइज से ठीक किया जा सकता है?

इन दिनों व्हाट्सएप पर वीडियो के साथ एक मैसेज वायरल हो रहा है, उसमें कुछ इसी तरह का दावा किया जा रहा है.

वीडियो में एक आदमी अपने दाहिने हाथ को अपने बाएं तरफ के सीने पर क्लॉकवाइज घुमा रहा है. पहली बार में वो हथेलियों को खोल कर घुमाता है और दूसरी बार मुट्ठी को बंद करके घुमाता है. वीडियो में बीच-बीच में साथ में वॉयस ओवर भी है, जिसमें अंग्रेजी में इस एक्सरसाइज को दिल के लिए अच्छा बताया जा रहा है.
(फोटो: वायरल वीडियो/iStock)

वीडियो के साथ एक मैसेज भी है. जिसमें लिखा है:

‘ये आदमी जो एक्सरसाइज दिखा रहा है, इसने हजारों लोगों के हार्ट के ब्लॉकेज को ठीक किया है और उससे बचाया है. अब ये वायरल हो चुका है, दिल की बीमारी से जूझ रहे हजारों लोग इस क्लिप की तलाश कर रहे हैं. तो इस एक्सरसाइज को देखिए और आजमाइए. कुछ लोगों ने तो ये भी दावा किया है कि इस एक्सरसाइज की वजह से उनका पीठ दर्द सात दिन के अंदर गायब हो गया’.

आजकल सोशल मीडिया पर इस तरह के मैसेज के वायरल होने में कोई बड़ी और नई बात नहीं है लेकिन बस मुश्किल ये है कि इस तरह के मैसेज पर यकीन कैसे किया जाए और अगर यकीन कर भी लिया जाए, तो इसे आजमाना सेहत पर क्या असर करेगा.

इस मैसेज की सच्चाई जानने के लिए फिट हिंदी ने अपोलो हॉस्पिटल के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ मुकेश गोयल से बात की.

सबसे पहली बात ये हार्ट के ब्लॉकेज को ठीक करने का दावा वीडियो में किया ही नहीं जा रहा है. दावा अगर किया जा रहा है, तो वो साथ में लिखे मैसेज में किया जा रहा है. जो किसी ने इसके साथ अलग से लिख कर इसे वायरल किया है.
डॉ मुकेश गोयल, कार्डियोलॉजिस्ट, अपोलो हॉस्पिटल

डॉ गोयल ने बताया, “दूसरी बात ये है कि अगर कोई हार्ट ब्लॉकेज होने पर अपना ट्रीटमेंट करवाने की बजाए वीडियो में बताई गई एक्सरसाइज ये सोच कर करेगा कि इससे ब्लॉकेज ठीक हो जाएगा, तो खतरनाक हो सकता है.”

डॉ गोयल के मुताबिक हार्ट ब्लॉकेज के इलाज में दवाएं और सर्जरी काम आती है.

हम अगर एक्सरसाइज की सलाह देते भी हैं, तो वो ‘ब्रिक्स वॉक’ है. हार्ट के ब्लॉकेज को ठीक करने के लिए वीडियो में बताए गए एक्सरसाइज से कोई लेना-देना नहीं है.
डॉ मुकेश गोयल, अपोलो हॉस्पिटल, नई दिल्ली

मैसेज में ये भी दावा किया गया है कि इस एक्सरसाइज को करने से बहुत से लोगों को पीठ के दर्द से 7 दिन के अंदर निजात मिल गई. इस बात की तफतीश करने के लिए फिट ने एम्स, नई दिल्ली के सीनियर रेसीडेंट आर्थोपेडिक डॉ मोहम्मद अकमल से बात की.

बैक पेन के लिए ये एक्सरसाइज नहीं बल्कि ‘स्पाइनल एक्सटेंशन’ और ‘कोर स्ट्रेंथनिंग’ एक्सरसाइज करनी चाहिए.
डॉ मोहम्मद अकमल, सीनियर रेसीडेंट आर्थोपेडिक, एम्स, नई दिल्ली

डॉ मुकेश गोयल कहते हैं कि इस तरह के वायरल मैसेज पर यकीन करके उसे फॉलो करना सरासर बेवकूफी है. उनके अनुसार इस तरह के वायरल मैसेज को बैन कर देना चाहिए, इनमें कोई सच्चाई नहीं होती है.

इस वीडियो में बताए जा रहे एक्सरसाइज का ना तो हार्ट के ब्लॉकेज से लेना-देना है और ना ही बैक पेन से. तो इस वीडियो को हार्ट ब्लॉकेज के नाम पर फॉरवर्ड करके लोगों को वेबकूफ ना बनाएं.

(अगर आपके पास भी सेहत से जुड़ा कोई मैसेज है, जिसकी सच्चाई आप जानना चाहते हैं, तो fithindi@thequint.com पर भेज सकते हैं.)

Follow our ये दिल section for more stories.

ये दिल