कहर ढा रहे इंसेफेलाइटिस के बारे में वो बातें, जो जानना जरूरी है

कहर ढा रहे इंसेफेलाइटिस के बारे में वो बातें, जो जानना जरूरी है

सेहतनामा

कैमरा: सुमित बडोला

वीडियो एडिटर: प्रशांत चौहान

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) इंडिया में एक सीरियस पब्लिक हेल्थ प्रॉब्लम है. हर साल देश के किसी न किसी हिस्से में ये कभी जापानी इंसेफेलाइटिस, कभी चमकी बुखार, कभी दिमागी बुखार तो कभी इंसेफेलोपैथी के रूप में कहर बरपाता है.

क्या है एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम?

आसान शब्दों में इंसेफेलाइटिस या दिमागी बुखार दिमाग में सूजन या इंफेक्शन को कहते हैं.

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम में बुखार होने के साथ पेशेंट के मेंटल स्टेटस में बदलाव देखा जाता है, जिसमें कन्फ्यूजन, बेहोशी, कोमा या मरीज को दौरा पड़ना शामिल है.

इंसेफेलाइटिस में:

  • तेज बुखार हो सकता है
  • उल्टी हो सकती है
  • सिर दर्द हो सकता है
  • शरीर अकड़ सकता है
  • पेशेंट को इरिटेशन हो सकती है
  • उसे सुस्ती लग सकती है

कमजोरी, मांसपेशियों में दर्द, भूख न लगना जैसे लक्षण भी नजर आ सकते हैं.

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम के कारण हो सकता है कि पेशेंट को कुछ समझ में न आए, वो बेहोश हो जाए, उसे दौरा पड़ने लगे या लकवा मार दे.
Loading...

खतरे का संकेत

बुखार के साथ अगर पेशेंट को बहुत ज्यादा सुस्ती या बेहोशी या अकड़न हो, तो ये खतरनाक हो सकता है.

सही समय पर सही इलाज न मिलने पर पेशेंट की जान भी जा सकती है, इसलिए जल्द से जल्द मेडिकल केयर की जरूरत होती है.

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम से बचाव के उपाय

  • मच्छरों जैसे वेक्टर पर कंट्रोल
  • टीकाकरण
  • साफ-सफाई का ख्याल
  • बच्चों को कुपोषण से बचाना और
  • पीने के लिए साफ पानी का इस्तेमाल

ये भी पढ़ें : क्या है इंसेफेलाइटिस, जिसके कारण बिहार में जा रही बच्चों की जान

सबसे बड़ी चुनौती

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम के कई कारण हो सकते हैं और ज्यादातर मामलों में इसके वजह की पहचान तक नहीं हो पाती.

इसलिए इन्हें दो कैटेगरी में बांटा गया है:

  1. Known Acute Encephalitis Syndrome
  2. Unknown Acute Encephalitis Syndrome

Known Acute Encephalitis Syndrome भी दो तरह का हो सकता है:

  1. वायरल इंसेफेलाइटिस
  2. नॉन वायरल इंसेफेलाइटिस

वायरल और नॉन वायरल इंसेफेलाइटिस

वायरल इंसेफेलाइटिस: जापानी इंसेफेलाइटिस वायरस (JEV), एंटरोवायरस, चांदीपुरा वायरस (CHPV), निपाह वायरस (NiV), हर्पीस वायरस और मीजल्स, मम्प्स, या डेंगू के वायरस से हो सकता है.

नॉन वायरल इंसेफेलाइटिस: बैक्टीरियल, ट्यूबरक्यूलर,पैरासिटिक, स्क्रब टाइफस, प्रोटोजोअल या फंगल इंफेक्शन से हो सकता है. केमिकल, कुछ फलों और कीटनाशकों के टॉक्सिन इसकी वजह हो सकते हैं. गैर-संक्रामक इंफ्लेमेटरी कंडिशन से भी इंसेफेलाइटिस हो सकता है.

इसमें हीट स्ट्रोक, हाइपोग्लाइसीमिया यानी बहुत लो ब्लड शुगर और कुपोषण को जान जाने की वजह बताया जाता है.

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम के causative agent मौसम और लोकेशन के साथ बदलते रहते हैं.

इसीलिए सबसे पहले इसके कारण का पता लगाने की जरूरत है, तभी इसका पूरी तरह से खात्मा किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें : बिहार: बच्चों की मौत के गिनाए जा रहे कारण, गर्मी से लेकर कुपोषण

Follow our सेहतनामा section for more stories.

सेहतनामा
    Loading...