उल्टी ओर हैं इस शख्स के अंदरूनी अंग, क्या ये कोई बीमारी है?
शरीर के अंदरूनी अंग उल्टी ओर होना एक जेनेटिक कंडिशन है
शरीर के अंदरूनी अंग उल्टी ओर होना एक जेनेटिक कंडिशन है(फोटो: iStock)

उल्टी ओर हैं इस शख्स के अंदरूनी अंग, क्या ये कोई बीमारी है?

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में पडरौना के निवासी जमालुद्दीन को पहली बार देखने पर वह साधारण इंसान की तरह ही लगते हैं, हालांकि ऐसा है नहीं. दरअसल उनके शरीर के सभी अंग उल्टी ओर स्थित हैं. जमालुद्दीन का दिल दाईं ओर स्थित है, जबकि उनका लीवर और गॉल ब्लैडर बाईं ओर है.

ये मामला तब सामने आया जब जमालुद्दीन ने पेट में दर्द होने की शिकायत की और उन्हें गोरखपुर एक डॉक्टर के पास ले जाया गया. उनकी एक्स-रे और अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट देख कर डॉक्टर भी चकित रह गए.

बेरियाट्रिक लेप्रोस्कोपिक सर्जन डॉ शशिकांत दीक्षित ने कहा, "उनके पित्ताशय में हमें पथरी मिली थी. लेकिन अगर पित्ताशय बाईं ओर स्थित रहता है तो पत्थरों को बाहर निकालना काफी कठिन होता है. हमें उनकी सर्जरी करने के लिए तीन डायमेंशनल लेप्रोस्कोपिक मशीनों की सहायता लेनी पड़ी."

सर्जरी के बाद जमालुद्दीन का स्वास्थ्य अब सुधर रहा है.

Loading...

एक जेनेटिक कंडिशन है ये

शरीर के अंदरूनी अंग उल्टी ओर होना एक जेनेटिक कंडिशन है, जिसे साइटस इवर्सस कहते हैं. 20 हजार लोगों में से कोई 1 इससे प्रभावित हो सकता है. जरूरी नहीं है कि सभी अंग उल्टी ओर हों. आमतौर पर इस कंडिशन से कोई नुकसान नहीं होता.

डॉ दीक्षित ने कहा कि उन्होंने पहला ऐसा मामला देखा है, जिसमें किसी के शरीर के सारे अंग गलत ओर स्थित हैं. ऐसा मामला साल 1643 में देखने को मिला था. ऐसे मामलों में लोगों का इलाज करना मुश्किल हो जाता है, वो भी तब, जब उन्हें सर्जरी की आवश्यकता होती है.

Follow our सेहतनामा section for more stories.

Loading...