बढ़ते एयर पॉल्यूशन के बीच खुद को कैसे बचाएं?
प्रदूषक तत्व हमारे मुंह और नाक के जरिए आंतों तक भी पहुंच सकते हैं.
प्रदूषक तत्व हमारे मुंह और नाक के जरिए आंतों तक भी पहुंच सकते हैं.(फोटो: iStock)

बढ़ते एयर पॉल्यूशन के बीच खुद को कैसे बचाएं?

वायु प्रदूषण के बिगड़ते हालात के बीच हर कोई ये जानना चाहता है कि जहरीली होती जा रही हवा में खुद को कैसे स्वस्थ रखा जाए. कोई मास्क लगाने की सलाह दे रहा है, तो कोई एयर प्यूरिफायर के फायदे बता रहा है.

ऐसे में आपको क्या करना चाहिए और क्या नहीं? बता रहे हैं फोर्टिस हॉस्पिटल के सीनियर पल्मोनोलॉजिस्ट डॉ मृणाल सरकार.

Loading...

एयर पॉल्यूशन का आप पर असर

प्रदूषित वायु के संपर्क में आने वाले सभी लोगों पर इसका असर पड़ता है. डॉ सरकार के मुताबिक हमारी आंखें, श्वसन पथ (respiratory tracts) और स्किन इन सभी पर इसके हानिकारक प्रभाव पड़ते हैं.

प्रदूषक तत्व हमारे मुंह और नाक के जरिए आंतों तक भी पहुंच सकते हैं. 

फिर, बचाव के लिए क्या करें?

डॉ मृणाल सरकार कहते हैं, 'जाहिर है बाहर पॉल्यूशन का लेवल काफी हाई होता है. इसलिए सबसे जरूरी ये है कि जितना हो सके, आप इसके एक्सरपोजर से बचें.'

अगर कार से बाहर निकल रहे हैं, तो खिड़कियां बंद रखें और एसी चलाएं.
अगर कार से बाहर निकल रहे हैं, तो खिड़कियां बंद रखें और एसी चलाएं.
(फोटो: AP)
  • जहां तक हो सके, बाहर निकलने से बचें.
  • अगर कार से बाहर निकल रहे हैं, तो खिड़कियां बंद रखें और एसी चलाएं.
  • सुबह-सुबह बाहर निकलने से बचें क्योंकि इस वक्त प्रदूषण का लेवल हाई होता है. इसलिए थोड़ा देर से निकलें, जब सूरज निकल आए.

घर के अंदर रखें इन बातों का ध्यान

ऐसा नहीं है कि अगर आप घर में हैं, तो एयर पॉल्यूशन से सुरक्षित हैं. घर के अंदर भी कई बातों का ख्याल रखना जरूरी है.

  • फर्श साफ करने के लिए झाड़ू की बजाए गीले पोछे का इस्तेमाल करें.
  • कालीन या सजावट के भारी समान, पर्दे का इस्तेमाल करने से बचें क्योंकि इनकी सतह पर प्रदूषक कण बैठ जाते हैं.

ये भी पढ़ें : एयर पॉल्यूशन से निपटने के वो कदम जो सरकार को नहीं, आपको उठाने हैं

प्रदूषित वातावरण और एक्सरसाइज?

किसी भी तरह की एक्सरसाइज के दौरान आपकी सांसें तेज हो जाती हैं. इसलिए आपके शरीर को ज्यादा हवा की जरूरत पड़ती है, इसलिए बढ़ते प्रदूषण के बीच एक्सरसाइज बेहतर विकल्प नहीं है. योग, सांस से जुड़ी एक्सरसाइज या जॉगिंग, किसी से कोई फायदा नहीं.
डॉ मृणाल सरकार, सीनियर पल्मोनोलॉजिस्ट, फोर्टिस हॉस्पिटल

क्या मास्क और एयर प्यूरिफायर्स से मदद मिल सकती है?

अच्छी क्वालिटी के मास्क इस्तेमाल करें.
अच्छी क्वालिटी के मास्क इस्तेमाल करें.
(फोटो: रॉयटर्स)

डॉ सरकार के मुताबिक मास्क से बहुत थोड़ी मदद मिल सकती है. वो बताते हैं कि मास्क का तभी फायदा है, जब उन्हें काफी कसकर पहना गया हो, नहीं तो प्रदूषित हवा अंदर लीक होगी. इसके साथ ही मास्क अच्छी क्वालिटी के होने चाहिए, जैसे N95 मास्क. ज्यादा समय तक मास्क पहने रहना भी कंफर्टेबल नहीं होता.

आप थोड़ी देर के लिए मास्क पहन सकते हैं, जैसे जब आप बाइक से कहीं बाहर जा रहे हों और राइड के बाद उतार दें. 

डॉ सरकार एयर प्यूरिफायर्स के फायदे को लेकर संदेह जताते हैं.

एयर प्यूरिफायर्स कितने मददगार हो सकते हैं, इसे लेकर बहुत कम वैज्ञानिक सबूत हैं. कमरे एयर-टाइट नहीं होते और जहरीली हवा फिर भी अंदर आ सकती है. 
डॉ मृणाल सरकार, सीनियर पल्मोनोलॉजिस्ट

क्या कोई फूड आइटम प्रदूषण के प्रभावों से बचा सकता है?

अब वॉट्सएप पर फॉरवर्ड किए जा रहे उन संदेशों का क्या, जिसमें कहा जा रहा है कि खाने की कुछ चीजें प्रदूषण के प्रभावों से निपटने में मदद कर सकती हैं?

डॉ सरकार कहते हैं कि हेल्दी खाना हमेशा अच्छा होता है, लेकिन ऐसे किसी फूड आइटम का पता नहीं चला है, जो आपको पॉल्यूशन के बुरे इफेक्ट्स से बचा सके.

ये भी पढ़ें : प्रदूषण के कारण 2 से 6 साल कम हो रही लोगों की उम्र

Follow our सेहतनामा section for more stories.

Loading...