साल 2014 से अब तक हुई 14 एम्स की घोषणा, जानिए कितना हुआ काम
बजट 2019 पेश करते हुए वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने 22वां एम्स हरियाणा में स्थापित करने की घोषणा की है. 
बजट 2019 पेश करते हुए वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने 22वां एम्स हरियाणा में स्थापित करने की घोषणा की है. (फोटो: ANI)

साल 2014 से अब तक हुई 14 एम्स की घोषणा, जानिए कितना हुआ काम

मोदी सरकार का अंतरिम बजट 2019-20, 1 फरवरी को पेश कर दिया गया और इस दौरान वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने देश में 22वां एम्स स्थापित करने की घोषणा भी कर दी.

‘देश में अभी 21 एम्स चल रहे हैं या प्रस्तावित हैं, इनमें से 14 एम्स की घोषणा 2014 से की गई है. दो तिहाई एम्स हमने ये सरकार आने के बाद शुरू किया. आज मुझे खुशी है, आप सबको ये बताते हुए कि जो 22वां एम्स है, अब मेरे राज्य में, मेरा परिवार जहां से आता है, हरियाणा में अब 22वां एम्स लगने जा रहा है.’
पीयूष गोयल, वित्त मंत्री

इस बजट से पहले मोदी सरकार 2014 से कुल 13 नए एम्स स्थापित करने की घोषणा कर चुकी है.

2014 में चार एम्स की घोषणा हुई

2014-15 के बजट भाषण में तब वित्त मंत्री अरुण जेटली ने चार नए एम्स (आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र के विदर्भ इलाके और उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल क्षेत्र) के लिए 500 करोड़ रुपए बजट की घोषणा की थी.

2015 में पांच एम्स की घोषणा हुई

वहीं 2015-16 के बजट भाषण में जेटली ने पांच और नए एम्स (जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, असम और तमिलनाडु) और बिहार में एम्स जैसे संस्थान की घोषणा की.

2016 में तीन एम्स की घोषणा हुई

फिर 2016-17 के बजट भाषण में दो एम्स (झारखंड और गुजरात) के लिए घोषित किए गए. इसी बजट भाषण के बाद जेटली ने तेलंगाना के लिए भी एक एम्स की घोषणा कर दी.

2018 में मदुरै में एम्स के लिए मंजूरी

17 दिसंबर 2018 को पीएम मोदी की अध्यक्षता में यूनियन कैबिनेट ने मदुरै में एम्स स्थापित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी और इसी 27 जनवरी को पीएम मोदी ने इसकी नींव भी रखी.

2019 में एक एम्स की घोषणा

इस बार के बजट भाषण में हरियाणा में एम्स स्थापित करने की घोषणा के साथ कुल 14 एम्स की घोषणा की जा चुकी है.

लेकिन नए एम्स स्थापित किए जाने की घोषणा होने के साथ ये भी जानना जरूरी है कि इन प्रस्तावित एम्स को कितने पैसे आवंटित किए जाने हैं, कितने रुपए रिलीज कर दिए गए और ये सभी एम्स कब पूरी क्षमता के साथ शुरू हो सकेंगे?

इसकी जानकारी हासिल करने के लिए इंडिया टुडे की ओर से जून, 2018 में राइट टू इंफॉर्मेशन (RTI) के तहत स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय से सवाल पूछा गया था.

जून, 2018 की RTI का जवाब

यूपी में AIIMS

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में एम्स प्रोजेक्ट के लिए 1,011 करोड़ रुपए मंजूर किए गए, लेकिन जून 2018 तक 98.34 करोड़ रुपए रिलीज हुए.

कैबिनेट से अनुमोदित समय सीमा: मार्च, 2020

आंध्र प्रदेश में AIIMS

इसके लिए 1,618 करोड़ रुपए मंजूर किए गए हैं, लेकिन जून 2018 तक 233.88 करोड़ रुपए रिलीज हुए.

कैबिनेट से अनुमोदित समय सीमा: अक्टूबर, 2020

पश्चिम बंगाल में AIIMS

यहां कल्याणी में एम्स बनना है. इस प्रोजेक्ट के लिए 1,754 करोड़ रुपए मंजूर किए गए, लेकिन 278.42 करोड़ रुपए रिलीज हुए.

कैबिनेट से अनुमोदित समय सीमा: अक्टूबर, 2020

महाराष्ट्र में AIIMS

इसके लिए 1,577 करोड़ रुपए मंजूर हुए और 231.29 करोड़ रिलीज हुए. इसे भी 2020 तक पूरा होना प्रस्तावित है.

कैबिनेट से अनुमोदित समय सीमा: अक्टूबर, 2020

असम में AIIMS

इसके लिए 1,123 करोड़ मंजूर किए गए, लेकिन जून 2018 तक सिर्फ 5 करोड़ रुपए ही रिलीज हुए.

कैबिनेट से अनुमोदित समय सीमा: अप्रैल, 2021

पंजाब में AIIMS

इसके लिए 925 करोड़ रुपए मंजूर हुए और जून, 2018 तक 36.57 करोड़ रुपए रिलीज हुए.

कैबिनेट से अनुमोदित समय सीमा: जून, 2020

जम्मू-कश्मीर में AIIMS

जून, 2018 तक इसके लिए पैसे आवंटित नहीं किए गए थे, लेकिन 90.84 करोड़ रुपए रिलीज जरूर कर दिए गए थे.

बता दें कि हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल की ओर से जम्मू में संबा के विजयनगर में 1,661 करोड़ रुपए, जबकि कश्मीर में पुलवामा के अवंतिपुरा में 1,828 करोड़ रुपए की लागत से एम्स बनाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी.

हिमाचल प्रदेश में AIIMS

बिलासपुर में बनने वाले इस एम्स के लिए 1,350 करोड़ रुपए मंजूर किए गए. इसकी नींव पीएम मोदी ने अक्टूबर, 2017 में रखी. हालांकि जून, 2018 तक फंड रिलीज नहीं किए गए थे.

कैबिनेट से अनुमोदित समय सीमा: दिसंबर, 2021

बिहार में AIIMS

एम्स कहां बनेगा और कितने रुपए आवंटित किए जाएंगे, ये जून, 2018 तक तय नहीं था.

झारखंड में AIIMS

देवघर में बनने वाले एम्स के लिए 1,103 करोड़ रुपए मंजूर किए गए और 9 करोड़ रिलीज किए गए.

कैबिनेट से अनुमोदित समय सीमा: फरवरी, 2021

गुजरात में AIIMS

यहां भी जून, 2018 तक साइट और फंड फाइनल नहीं था.

हालांकि इस साल जनवरी में खबर आई कि गुजरात का एम्स राजकोट में बनाया जाएगा.

Follow our सेहतनामा section for more stories.