ऐसी है नए ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ टाइगर श्रॉफ की वर्कआउट रूटीन
टाइगर श्रॉफ रेगुलर वर्कआउट में तरह-तरह की टेक्नीक और एक्सरसाइज को कंबाइन करते हैं.
टाइगर श्रॉफ रेगुलर वर्कआउट में तरह-तरह की टेक्नीक और एक्सरसाइज को कंबाइन करते हैं.(फोटो: Instagram/ @tigerjackieshroff)

ऐसी है नए ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ टाइगर श्रॉफ की वर्कआउट रूटीन

बॉलीवुड फिल्मों में अपने स्टंट के लिए पहचाने जाने वाले अभिनेता टाइगर श्रॉफ अपनी फिटनेस के लिए हेवी वेटलिफ्टिंग और हाई इंटेसिटी ट्रेनिंग से लेकर मिक्स्ड मार्शल आर्ट और किकबॉक्सिंग तक सब करते हैं.

टाइगर रेगुलर वर्कआउट करते हैं और तरह-तरह की टेक्नीक, एक्सरसाइज को कंबाइन करते हैं. वो डांस और मार्शल आर्ट के साथ कार्डियो करते हैं, वेट ट्रेनिंग के जरिए मांसपेशियों की स्ट्रेंथ पर फोकस करते हैं.

ये इंस्टाग्राम पोस्ट उनके वर्कआउट और इसके फायदे को साबित भी करते हैं.

Loading...

वेटलिफ्टिंग

टाइगर वेटलिफ्टिंग के लिए अपनी मांसपेशियों की ताकत का सबसे अधिक इस्तेमाल करते हैं. वह अपने शरीर के हर अंग पर खास ध्यान देते हैं और हाथ-पैर की एक्सरसाइज कई बार करते हैं.

हैवी लिफ्टिंग से शरीर की ऊपरी हिस्से की शक्ति को बढ़ाने में मदद मिलती है और मांसपेशियां मजबूत होती हैं. श्रॉफ के वेट ट्रेनिंग में डंबल, बारबेल और रिवर्स कर्ल सहित बीसेप कर्ल शामिल है. बेंच प्रेस, पुल अप्स और पुल डाउन्स भी उनके वर्कआउट का एक खास हिस्सा है.

ये भी पढ़ें : वर्कआउट टिप्स: आपके लिए कौन सी एक्सरसाइज है सही?

जिम्नास्टिक और मिक्स्ड मार्शल आर्ट

टाइगर श्रॉफ ने हाल ही में इंस्टाग्राम पोस्ट में अपने वर्कआउट के एक हिस्से का वीडियो शेयर किया, जिसमें जिम्नास्टिक भी शामिल है.

जिम्नास्टिक लचीलेपन और हड्डियों की मजबूती बढ़ाने के सबसे प्रभावी तरीकों में से एक है. इससे अपर बॉडी की स्ट्रेंथ बढ़ती है और बैलेंस, पावर, कंट्रोल, स्फूर्ति में सुधार होता है.

श्रॉफ हर दिन वर्कआउट करते हैं और कम से कम 2 घंटे जिम्नास्टिक और मिक्स्ड मार्शल आर्ट को देते हैं. ये कैलोरी बर्न करने का बेहतरीन तरीका है.

किकबॉक्सिंग

टाइगर श्रॉफ के एक्सरसाइज रूटीन में किकबॉक्सिंग भी शामिल है. इस हाई एनर्जी वर्कआउट में मार्शल आर्ट की कई टेक्नीक शामिल होती हैं. कैलोरी और फैट बर्न करने का ये एक अच्छा तरीका है.

किकबॉक्सिंग सिर्फ फिजिकल स्ट्रेंथ के लिए ही नहीं बल्कि ये मेंटल हेल्थ के लिए भी कारगर है. इससे स्ट्रेस घटाने और कॉन्फिडेंस लेवल बढ़ाने में मदद मिलती है.

ये भी पढ़ें : गर्मियों में एक्सरसाइज, जानिए ‘वाटर वर्कआउट’ के फायदे

Follow our डोले-शोले section for more stories.

    Loading...