वजन कम करने के लिए प्लैंक है बेहतर विकल्प,आपने आजमाया क्या?
एक्सपर्ट्स का कहना है कि वजन कम करने के लिए सिट-अप्स से बेहतर विकल्प है प्लैंक 
एक्सपर्ट्स का कहना है कि वजन कम करने के लिए सिट-अप्स से बेहतर विकल्प है प्लैंक फोटो : क्विंट फिट 

वजन कम करने के लिए प्लैंक है बेहतर विकल्प,आपने आजमाया क्या?

क्या आप अपने कोर (बॉडी के बीच के हिस्से) को मजबूत करने का प्रयास कर रहे हैं. यदि ऐसा है तो इसका जवाब सिट्स-अप्स (पेट की मांसपेशियों को मजबूत करने की एक्सरसाइज) तो नहीं है. (यूएस आर्मी भी इससे सहमत है.)

यदि खबरों पर यकीन करें तो सिट्स-अप्स आपकी रीढ़ की हड्डी पर बहुत अधिक दबाव डालता है. इससे कमर के निचले हिस्से में दर्द के साथ ही हर्निएटेड डिस्क (रीढ़ की हड्डी का निचले हिस्से से संबंधित) की समस्या भी हो सकती है. ऐसा सिट्स-अप्स में होने वाले मोशन के कारण होता है. इससे पीठ की हड्डी पर दबाव पड़ता है. भले ही इसे नरम सतह पर किया जाए. इससे डिस्क में उभार हो जाता है. यह नर्व्स पर दबाव भी डाल सकता है जिससे व्यक्ति को असुविधा होती है.

योग एक्सपर्ट जुबिन अत्रे सिट्स-अप्स की निरर्थकता पर टिप्पणी करते हैं. वह इस बात पर जोर देते हैं कि इसे छोड़ देना चाहिए क्योंकि इससे विशेष रूप से चोट लगने की आशंका बनी रहती है.

जब अप सिट्स-अप्स करते हैं, यह न सिर्फ आपके पेट की मांसपेशियों पर बल्कि रीढ़ की हड्डी पर भी असर करता है. यदि आप में से किसी की पीठ थोड़ी से मुड़ी हो, तो उसके पीठ में चोट लगने की आशंका बढ़ जाती है. सिट्स-अप्स पीठ या पेट की मांसपेशियों को मजबूत करने की बजाय आपके पीठ के निचले हिस्से को नुकसान पहुंचा सकता है. इस कारण आपको ता उम्र दर्द के साथ जीना पड़ सकता है.-
जुबिन अत्रे

तो, इसका उपाय क्या है?

(फोटो:iStock)

जुबिन कहते हैं अपने पीठ के निचले हिस्से को मजबूत बनाइए.

मेरी सलाह है कि पेट की मांसपेशियों वाली करने वाली एक्सरसाइज शुरू करने से पहले आपको अपने कमर के निचले हिस्से को इस तरह की एक्सरसाइज के लिए मजबूत बनाना होगा. पेट की मांसपेशियों वाली एक्सरसाइज शुरू करने से पहले पीठ की निचले हिस्से की मांसपेशियों और अपने पुट्ठों (ग्लूट्स) को वास्तव में मजबूत करना चाहिए.
जुबिन अत्रे

सिट्स-अप्स से कमर पतली नहीं होती

इस रिपोर्ट में नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफोर्मेशन की स्टडी हवाला दिया गया है. इसमें अमेरिका के इलिनॉय स्टेट में साल 2011 में दो समूहों को स्टडी के लिए चुना गया था. इस स्टडी में सिट्स-अप्स का पेट की चर्बी पर प्रभाव देखना था. इनमें एक समूह ने छह सप्ताह तक एक्सरसाइज की जबकि दूसरे समूह ने नहीं की. अवधि खत्म होने और विस्तृत माप के बाद यह पाया गया कि सिट्स-अप्स का प्रतिभागियों की कमर पर कोई प्रभाव नहीं था. जबकि इससे समूह के मांसपेशियों की मजबूती में सुधार देखा गया. इससे कमर पर किसी भी तरह से चर्बी कम नहीं हुई. इस रिपोर्ट ने 2005 के ही उस बिंदु को आगे बढ़ाया. उसमें पाया गया था कि अमेरिकी सेना के सैन्य प्रतिष्ठान फोर्ट ब्रैग में दो साल के फिजिकल फिटनेस टेस्ट के दौरान सैनिकों को 56 फीसदी चोटें सिट्स-अप्स के कारण थीं.

जब बात वजन कम करने की आती है तो जुबिन भी सिट्स-अप्स की अनुपयोगिता पर सहमत होते हैं और कहते हैं.

इसका वास्तव में बहुत अधिक मूल्यांकन किया गया है. यदि आपकी उम्र 30 साल है और आप अपनी कमर को पतला करना चाहते हैं. ऐसे में सिट्स-अप्स पूरी तरह से गलत दृष्टिकोण हैं. आपको यहां से शुरुआत नहीं करनी चाहिए. क्या सिट्स-अप्स वजन कम करने में आपकी मदद करने जा रहा है? वास्तव में नहीं. यदि वजन कम करना आपका उद्देश्य है तो आपको वास्तव में देखना होगा कि आप क्या खा रहे हैं. यदि आपका पेट नहीं निकला है और आप अपना कोर मजबूत करना चाहते हैं. और चाहते हैं कि आपके एब्स दिखें, फिर भी सिट्स-अप्स से आपको मदद नहीं मिलेगी. बस आप अपने किचन में जाएं और देखें कि आप क्या खा रहे हैं.
(फोटो:iStock)

इसी प्रकार, होलिस्टिक एक्सपर्ट वेसना जैकब कहती हैं कि यदि आप अपनी कमर को पतला करना चाहते हैं तो सिट्स-अप्स से बहुत फायदा नहीं होता है.

इसके लिए लोगों को कई अन्य डायनेमिक एक्सरसाइज करनी चाहिए. सिर्फ सिट्स-अप्स अपने आप में बॉडी के लिए बहुत कुछ नहीं करता है.
वेसना जैकब

सिट्स-अप्स के विकल्प

रिसर्च सुझाव देते हैं, हालांकि सिट्स-अप्स के कई बेहतर विकल्प हैं जो कोर को मजबूत करने में मदगार होंगे. इनमें से एक प्लैंक्स (कोहनी के बल शरीर का क्षैतिज या हॉरिजॉन्टल अवस्था में पंजों के सहारे संतुलन करना) है.

जबकि कई स्टडीज में इस एक्सरसाइज से होने वाले फायदों को भी खारिज किया होगा. लेकिन बात जब कोर के मजबूती की आती है तो फिटनेस कम्युनिटी में अभी भी प्लैंक्स को अधिक लोगों का समर्थन प्राप्त है.

जब आप सिट्स-अप्स के स्थान पर प्लैंक्स करते हैं. जब प्लैंक में आप कोहनियों के बल होते हैं. और शरीर का बाकी हिस्सा पंजों के सहारे एक सीधी लाइन में होता है. ऐसे में आप पेट, शरीर के निचले हिस्से की मांसपेशियां और पुट्ठों का प्रयोग कर रहे होते हैं. इसे 10 सेकंड की अवधि से शुरू करें और धीरे-धीरे बढ़ाकर 3 मिनट तक कर सकते हैं.
जुबिन अत्रे

जहां तक चोट लगने का सवाल है तो दोनों एक्सरसाइज में से प्लैंक्स निश्चित रूप से बेहतर विकल्प है.

प्लैंक एक बहुत सुरक्षित और प्रभावी एक्सरसाइज है. सिट्स-अप के विपरीत. इसमें आप अधिक नियंत्रित रहते हैं. जबकि सिट्स-अप्स में कई जर्की मूवमेंट्स होते हैं. जब एक्सरसाइज कर रहे होते हैं तो आपको अपनी गलती महसूस नहीं होती है. हो सकता है आप अपने दर्द की परवाह न करें और एक्सरसाइज करना जारी रखें.एक बार एक्सरसाइज करने के बाद आपको इसका नुकसान कुछ दिन बाद दिखाई देगा.-
जुबिन अत्रे

वेसना जैकब कहती हैं, शरीर को गतिशील रखना जरूरी है. लेकिन इससे भी अधिक महत्वपूर्ण है अपने शरीर को सुनना और इसे समय देना. यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो इस सारी कवायद का कोई अर्थ नहीं है.

(फोटो:iStock)

कोर को बनाने के लिए यह (प्लैंक) और महत्वपूर्ण है क्योंकि यह संतुलन बनाए रखता है और पीठ की हड्डी को मजबूती से सपोर्ट करता है. विशेषरूप से यदि आपके लाइफस्टाइल में डेस्क पर लंबे समय तक बैठना शुमार है.

यदि सिट्स-अप्स व्यर्थ है तो क्यों इतने लंबे समय से चल रहा है?

वेसना कहती हैं कि सिट्स-अप्स के इतने लंबे समय से चलते रहने का कारण है कि यह लोगों द्वारा अपनी एक्सरसाइज को गिनने से जुड़ा है.

इसका इस तथ्य से अधिक लेना देना है कि हमें संख्या गिनना ज्यादा पसंद है. सिट्स-अप्स को बिल्कुल स्पष्ट तरीके से गिना और किया जा सकता है. मैं नहीं समझती कि इसे ज्यादा और कुछ है.
- वेसना जैकब
(फोटो:iStock)

सिट्स-अप्स का इतने लंबे समय तक चलते रहने का कारण है यह लोगों द्वारा अपनी एक्सरसाइज को गिनने से जुड़ा है.

जुबिन कहते हैं कि सुंदरता के मानक सदियों से काफी हद तक बदले हैं. इसमें फिटनेस से जुड़े अलग-अलग एक्सरसाइज और विचार आए और गए. हालांकि यदि आप वजन कम करना चाहते हैं तो आपको सिट्स-अप्स छोड़ कर ये ध्यान देने की जरूरत है कि आप क्या खाते हैं. आप कितना सोते हैं. आपका मेटाबॉलिक रेट, शरीर में पानी की मात्रा, प्रोटीन इनटेक कितना है. आपका दिन कैसा होता है और रोजाना किस तरह की एक्टिविटी करते हैं.

जुबिन कहते हैं आहार के महत्व पर बहुत ज्यादा जोर नहीं दिया जा सकता है. बस अपने आपको एजुकेट करते रहें यही वजन कम करने के लिए पर्याप्त होगा.

Follow our डोले-शोले section for more stories.