दर्द से राहत दे सकती हैं खाने की ये 10 चीजें
क्या खाने की कुछ चीजें दर्द से आराम दे सकती हैं?
क्या खाने की कुछ चीजें दर्द से आराम दे सकती हैं?(फोटो: iStock\canva)

दर्द से राहत दे सकती हैं खाने की ये 10 चीजें

आपके शरीर में दर्द इसलिए होता है ताकि आप उस पर ध्यान दे सकें. इसलिए जब आपको दर्द हो, तो उस पर ध्यान दीजिए. आमतौर पर दर्द की कोई खास वजह नहीं होती और उसे आसानी से ठीक किया जा सकता है, बस आपको दर्द की वजह पता होनी चाहिए ( जैसे, शायद आपकी मांसपेशियों में खिंचाव के कारण दर्द हो रहा हो).

अक्सर शरीर में सूजन की वजह से भी बहुत दर्द होता है. ऐसे में आप अपने खाने में कुछ ऐसी चीजें शामिल कर सकते हैं, जो शरीर को प्राकृतिक तौर पर सूजन और दर्द से आराम देने में मदद करती हैं.

1. पपीता

पपीते में पाया जाता है पपेन एंजाइम
पपीते में पाया जाता है पपेन एंजाइम
(फोटो: iStock)

पपीते में पपेन नाम का एक एंजाइम पाया जाता है, जो दर्द में काफी असरदार होता है. इस एंजाइम को इतना प्रभावकारी माना जाता है कि पीठ दर्द के लिए इसका इस्तेमाल इंजेक्शन के लिए होता है.

जलने से होने वाले दर्द, चुभन, चोट और ऑपरेशन के बाद होने वाले दर्द में ये काफी राहत पहुंचाने के लिए जाना जाता है.

पपेन रक्त का थक्का बनने की प्रक्रिया (ब्लड क्लॉटिंग) को भी धीमा करता है, जिससे रक्त के प्रवाह में सुधार होता है, सूजे हुए हिस्से में ऑक्सीजन और पोषक तत्वों का संचरण बढ़ाता है. इस तरह दर्द में आराम मिलता है.

हफ्ते में दो से तीन बार पपीता खाना चाहिए.

2. सैल्मन फिश

सैल्मन फिश में भरपूर मात्रा में पाया जाता है ओमेगा-3s
सैल्मन फिश में भरपूर मात्रा में पाया जाता है ओमेगा-3s
(फोटो: iStock)

सभी मछलियों में ओमेगा-3s फैट होता है, लेकिन सबसे ज्यादा ये सैल्मन मछली में पाया जाता है. सूजन से होने वाले दर्द में बचाव के लिए ओमेगा-3s काफी मददगार है. इस मछली का सेवन गठिया में होने वाले सूजन को काफी हद तक कम करता है.

हफ्ते में दो बार सैल्मन फिश का सेवन अच्छा होता है.

3. ओट्स

सूजन में भी राहत देते हैं ओट
सूजन में भी राहत देते हैं ओट
(फोटो: iStock)

ओट्स न केवल कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर का लेवल कम करने में मदद करते हैं बल्कि सूजन में भी राहत पहुंचाते हैं. ये प्रोस्टाग्लैंडीन नाम के रसायन का संश्लेषण रोकते हैं, जो सूजन के लिए जिम्मेदार होता है.

हर दूसरे दिन ओट्स का सेवन फायदेमंद होता है.

4. अदरक

अदरक में पाए जाते हैं औषधीय अवयव
अदरक में पाए जाते हैं औषधीय अवयव
(फोटो: iStock)

अदरक दर्द में काफी आराम देता है. चाहे गठिया की वजह से जोड़ों में दर्द हो या पीरियड्स के दौरान होने वाला दर्द हो. कुछ अध्ययन बताते हैं कि अदरक मांसपेशियों में होने वाले दर्द में काफी राहत देता है.

ऐसा अदरक में पाए जाने वाले सक्रिय औषधीय अवयव जिंजरोल और शोगल नाम के फाइटोकैमिकल्स के कारण है.

इसीलिए चीन में हजारों साल से इसका इस्तेमाल दर्द निवारक के तौर पर होता आ रहा है.

अपने खाने में रोजाना अदरक को शामिल करिए.

5. हल्दी

आयुर्वेद में होता आ रहा है हल्दी का इस्तेमाल
आयुर्वेद में होता आ रहा है हल्दी का इस्तेमाल
(फोटो: iStock)

हल्दी का पारंपरिक तौर पर पूरी दुनिया में, खासतौर पर आयुर्वेद में, इस्तेमाल होता आ रहा है, जो दर्द में काफी राहत पहुंचाती है.

अब कई अध्ययन भी ये साबित कर रहे हैं कि हल्दी में कुछ ऐसे सक्रिय अवयव पाए जाते हैं, जो गठिया, गैस्ट्रिक, माइग्रेन और सर्जरी के बाद होने वाले दर्द में आराम देते हैं.

रोजाना आधा चम्मच हल्दी जरूर खाएं. साथ में कालीमिर्च इसे अवशोषित करने में मदद कर सकती है.

6. बीज और मेवे

मेवे और कुछ बीज का सेवन दर्द से राहत देता है
मेवे और कुछ बीज का सेवन दर्द से राहत देता है
(फोटो: iStock)

सूरजमुखी के बीज, तिल और मूंगफली में ट्रिप्टोफेन पाया जाता है. ये कैमिकल दर्द की संवेदना को कम करता है. साथ में कद्दू के बीज दर्द में काफी असरदार होते हैं क्योंकि इनमें मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है. मैग्नीशियम एक ऐसा खनिज (मिनरल) है, जो माइग्रेन में काफी असरदार जाना जाता है.

रोजाना एक चम्मच मेवे और बीज खाएं.

7. लाल अंगूर

हफ्ते  में दो बार करें अंगूर का सेवन
हफ्ते  में दो बार करें अंगूर का सेवन
(फोटो: iStock)

लाल अंगूर (कुछ हद तक हरे अंगूर भी) के छिलके में रेसवेरट्रोल होता है. रेसवेरट्रोल नॉनस्टेरॉयड एंटी-इंफ्लैमेटरी ड्रग्स की ही तरह COX एंजाइम के कारण होने वाले दर्द और सूजन को रोकता है.

अंगूर के मौसम में हफ्ते में दो बार जरूर खाएं.

8. वर्जिन ऑलिव ऑयल (जैतून का तेल)

जैतून के कच्चे तेल में पाए जाते हैं दर्द निवारक तत्व
जैतून के कच्चे तेल में पाए जाते हैं दर्द निवारक तत्व
(फोटो: Pixabay)

जैतून के तेल में एक यौगिक पाया जाता है, जो दर्द निवारक की तरह काम करता है. इस यौगिक का नाम है, oleocanthal.

इसमें लुब्रिकिन भी होता है, जो उपास्थि को टूटने से बचाता है और इस तरह ऑस्टियोआर्थराइटिस से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद होता है.

सलाद में इसका हफ्ते में कम से कम तीन बार इस्तेमाल करना अच्छा होता है.

9. चेरी

दर्द के एंजाइम को ब्लॉक कर देते हैं चेरी में पाए जाने वाले तत्व
दर्द के एंजाइम को ब्लॉक कर देते हैं चेरी में पाए जाने वाले तत्व
(फोटो: iStock)

चेरी में कुछ फाइटोन्यूट्रीएंट्स (पौधों में पाए जाने वाले प्राकृतिक रसायन) यौगिक पाए जाते हैं, जिन्हें anthocyanins कहते हैं. ये बेहद शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं. कहा जाता है कि ये सूजन और दर्द के एंजाइम को ब्लॉक कर देते हैं.

मौसम के दौरान हफ्ते में दो बार चेरी खाना चाहिए.

10. पुदीना (मिंट)

खौलते पानी में पुदीने की पत्तियां डालकर तैयार करें पुदीने की चाय
खौलते पानी में पुदीने की पत्तियां डालकर तैयार करें पुदीने की चाय
(फोटो: Pixabay)

पेपरमिंट न सिर्फ सांसों में ताजगी देता है, बल्कि इसमें मौजूद मेंथॉल मांसपेशियों में होने वाली ऐंठन से भी बचाता है. इसीलिए पुदीने को प्राकृतिक ऐस्पिरिन तक कहा गया है.

किसी भी तरह के दर्द के लिए पुदीने की चाय तैयार करें.

(कविता देवगत एक न्यूट्रिशनिस्ट, वजन प्रबंधन सलाहकार और हेल्थ राइटर हैं. इन्होंने Don't Diet! 50 Habits of Thin People (Jaico) किताब लिखी है. इनकी अगली किताब Ultimate Grandmother Hacks: 50 Kickass Traditional Habits for a Fitter You (Rupa) सितंबर में आने वाली है.)

Follow our फिट ज़ायका section for more stories.