कॉफी पीकर कैसे दूर हो जाती है नींद? जानिए शरीर पर कैफीन का असर
जब हम एक के बाद एक कई कप कॉफी पी जाते हैं, तो क्या आपने सोचा है कि वास्तव में आपके शरीर पर इसका क्या प्रभाव होता है? 
जब हम एक के बाद एक कई कप कॉफी पी जाते हैं, तो क्या आपने सोचा है कि वास्तव में आपके शरीर पर इसका क्या प्रभाव होता है? (फोटो: iStockphoto)

कॉफी पीकर कैसे दूर हो जाती है नींद? जानिए शरीर पर कैफीन का असर

पिछले साल में, भारत सरकार के कॉफी बोर्ड के अनुसार, देश में कॉफी उत्पादन के लिए मॉनसून पूर्व पैदावार का अनुमान 3,19,500 मीट्रिक टन रखा गया था. इसमें दोनों अरेबिका के साथ-साथ रोबस्टा प्रकार की कॉफी भी शामिल थी. अब, हम किससे मजाक कर रहे हैं? यह बहुत ज्यादा कॉफी है. जबकि टीयर- II और III शहरों में चाय की अच्छी मांग है, शहरी भारत में कॉफी का क्रेज तेजी से बढ़ रहा है.

जब हम एक के बाद एक कई कप कैफीन पी जाते हैं, तो क्या आपने सोचा है कि असल में आपके शरीर पर इसका क्या प्रभाव होता है?

सबसे पहले, कैफीन को समझने से शुरू करते हैं

कैफीन एक प्राकृतिक पदार्थ है, जो चाय और कॉफी दोनों में पाया जाता है. इसे पौधों से निकाला जाता है. डाइट में न्यूट्रिशन के रूप में इसकी कोई आवश्यकता नहीं होती है. एक औसत वयस्क हर दिन लगभग 8 औंस या 240 मिलीलीटर या लगभग तीन कप कॉफी पी सकता है. इसे मीडियम मात्रा में कैफीन माना जाएगा. एक रिपोर्ट के अनुसार, इसके ऊपर कुछ भी रेकमेंडेड नहीं है.

एक स्टडी इस तरफ इशारा करती है कि कैफीन भी एक प्रकार की दवा है, जो अलर्टनेस को बढ़ाती है और स्टिमुलेंट्स की कैटेगरी में आती है.

मैक्स हॉस्पिटल, नई दिल्ली में कंसल्टेंट न्यूट्रिशनिस्ट मंजरी चंद्रा कहती हैं:

कैफीन एक सेंट्रल नर्वस सिस्टम स्टिमुलेंट (या उत्तेजक) के रूप में कार्य करता है. जब यह आपके ब्रेन तक पहुंचता है, तो आप अधिक जागृत और कम थका हुआ महसूस करते हैं.

जब कॉफी आपके बॉडी में जाती है

आपने बस एक कप कॉफी गटकी, आगे क्या, आपको आश्चर्य होगा? 
आपने बस एक कप कॉफी गटकी, आगे क्या, आपको आश्चर्य होगा? 
(फोटो: iStockphoto)

आपने बस कॉफी का एक कप गटका, आगे क्या, आपको आश्चर्य होगा? इस रिपोर्ट के अनुसार, इसमें मौजूद कैफीन पहले 15 मिनट के भीतर काम करना शुरू करेगा और फिर 30-60 मिनट के बीच अपने चरम पर पहुंच कर कुछ भी करने में सक्षम होगा.

कैफीन पेट और छोटी आंत के जरिए ब्लडस्ट्रीम में प्रवेश करती है और फिर लगभग कुछ घंटों के लिए शरीर में घूमती रहती है. यह बॉडी में एडेनोसिन (नींद लाने वाला पदार्थ) रिसेप्टर को ब्लॉक करके नींद को रोक देती है.

पेय के 99 प्रतिशत कैफीन को अवशोषित होने में केवल 45 मिनट लगते हैं. मनुष्यों में, कैफीन की हाफ-लाइफ औसतन 4 से 6 घंटे तक होती है, जो बताती है कि औसत एनर्जी ड्रिंक या कॉफी का प्रभाव लगभग 4 से 6 घंटे तक क्यों रहता है.
मंजरी चंद्रा

स्टडीज में आगे बताया गया है कि जब आप आमतौर पर नींद महसूस करते हैं, ऐसे में कॉफी आपकी नींद और बॉडी क्लॉक को महत्वपूर्ण तरीके से बाधित कर सकती है. ऐसा गहरी नींद के घंटों में कटौती या बस बेचैनी वाली नींद के कारण होता है. एक अन्य स्टडी ने इसका समर्थन किया और कहा कि सोने से 6 घंटे पहले भी कैफीन का सेवन करने से लगभग एक घंटे की नींद में कटौती हो सकती है.

कॉफी या कैफीन हमारे सर्केडियन रिदम (शारीरिक, मानसिक और व्यवहारिक परिवर्तन) को अपसेट कर सकता है. सोने से एक घंटे पहले एक कप कॉफी प्रभावी नींद को एक घंटे तक कम कर सकती है.
मंजरी चंद्रा

हालांकि कैफीन के प्रति आपकी बॉडी कैसे रिएक्ट करती है, यह अलग-अलग लोगों में अलग-अलग होगा. जबकि कुछ लोग एक कप कॉफी के बाद कुछ घंटों के लिए रुकते हैं, वही कुछ लोग बिना किसी चिंता के तुरंत दूसरी बार भी कॉफी पी लेते हैं.

उदाहरण के लिए, इस रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में कॉलेज के 50 छात्रों को कैफीन की खपत और इसने उनकी नींद को कैसे प्रभावित किया, इसका रिकॉर्ड रखने के लिए कहा गया. ऑब्जर्वेशन से यह निष्कर्ष निकला कि वे पहले से ही इतने थके हुए और नींद से वंचित थे कि वे सो जाते थे, कॉफी पीने का उन पर कोई असर नहीं देखा गया.

हालांकि, नींद की कमी के अलावा, कई अन्य कारक हैं जो एक व्यक्ति पर कॉफी के प्रभाव को निर्धारित करते हैं.

कारक जो तय करते हैं कैफीन का आपके शरीर पर असर

आपकी नींद पर कैफीन का प्रभाव इससे भी निर्धारित होता है कि आप पूरे दिन के दौरान और सोने से ठीक पहले कितना कैफीन ले चुके हैं. 
आपकी नींद पर कैफीन का प्रभाव इससे भी निर्धारित होता है कि आप पूरे दिन के दौरान और सोने से ठीक पहले कितना कैफीन ले चुके हैं. 
(फोटो: iStockphoto)

जेंडर अपना रोल प्ले करता है. आंकड़े बताते हैं कि जो लोग खुद को कॉफी पर निर्भर मानते हैं, इनमें महिलाओं में नींद पर इसके प्रभावों से निपटने में समय लगता है. इसके अतिरिक्त, कॉफी पीने पर एक दिन भी संयम रखने से नींद को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है. भले ही लोगों ने कॉफी को डिकैफिनेट किया हो, लेकिन आगे भी यह देखा गया है.

जेंडर फैक्टर के साथ, आपकी बॉडी पर कैफीन के प्रभाव को निर्धारित करने वाले अन्य कारकों में उम्र, संवेदनशीलता, जेनेटिक मेकअप और कॉफी पीने का समय शामिल है.

इस स्टडी के अनुसार, आपकी नींद पर कैफीन का प्रभाव इससे भी निर्धारित होता है कि आपने पूरे दिन के दौरान और सोने से पहले कितना कैफीन लिया है. जबकि उपर्युक्त स्टडीज में नींद के घंटों के संदर्भ में संख्याओं का उल्लेख है, जो कैफीन बाधित करता है. लेकिन इसका किस हद तक प्रभाव पड़ता है, इस पर जानकार पुख्ता तौर पर कुछ नहीं कहते हैं.

ये भी पढ़ें : स्मार्टफोन और कंप्यूटर से इस तरह खराब होती है आपकी नींद

Follow our फिट ज़ायका section for more stories.