तनाव का है बड़ा नुकसान, किसी भी कीमत पर इसे हावी न  होने दें
मॉर्डन लाइफ स्टाइल ने तनाव बढ़ाया है लेकिन इसे दूर करने के तरीके भी मौजूद हैं. 
मॉर्डन लाइफ स्टाइल ने तनाव बढ़ाया है लेकिन इसे दूर करने के तरीके भी मौजूद हैं. (फोटो:द क्विंट)

तनाव का है बड़ा नुकसान, किसी भी कीमत पर इसे हावी न  होने दें

तनाव से पैदा होती हैं शारीरिक और मानसिक दिक्कतें

आधुनिक जीवनशैली का इन दिनों मतलब हो गया है सोशल मीडिया, स्मार्टफोन, ट्रांस फैट और सबसे बढ़कर थका देने वाली नौकरी. जीवनशैली जैसे-जैसे तेज होती जाती है, तनाव भी उसी रफ्तार से बढ़ता जाता है और फिर कई तरह के भावनात्मक और शारीरिक समस्याएं सामने आती हैं.

Loading...

परफॉर्मेंस पर असर

काम से जुड़े तनाव का सबसे पहला असर पड़ता है रोजाना के वर्क परफॉर्मेंस पर. कार्यक्षमता में कमी के साथ अक्सर काम से गायब रहने की प्रवृत्ति बढ़ने लगती है. फिर ना तो काम समय पर खत्म होता है और ना ही नए आइडिया आते हैं. काम से जुड़े तनाव के कुछ स्पष्ट भावनात्मक लक्षण होते हैं जिनकी पहचान करके उन्हें तुरंत दूर करना चाहिए.

तनाव के भावनात्मक लक्षण

तनाव के भावनात्मक लक्षणों को नजरअंदाज न करें 
तनाव के भावनात्मक लक्षणों को नजरअंदाज न करें 
इन्फोग्राफिक्स:स्मृति चंदेल 

तनाव से होने वाले बदलाव

अगर तनाव को दूर नहीं किया जाए तो इससे किसी शख्स के बर्ताव और शख्सियत में बड़े बदलाव आ सकते हैं. खाने की आदतों से लेकर नशीले पदार्थों के इस्तेमाल तक और नींद में अनियमितता से लेकर घबराहट तक— तनाव के असर गंभीर और दूरगामी हो सकते हैं.

व्यवहार में बदलाव

तनाव का इंसान के व्यवहार पर साफ असर दिखता है
तनाव का इंसान के व्यवहार पर साफ असर दिखता है
इन्फोग्राफिक्स:स्मृति चंदेल 

तनाव कैसे दूर करें

काम से जुड़े तनाव को दूर करने के लिए जरूरी है कि अपने व्यक्तित्व और काम में भरोसा पैदा किया जाए, मिले हुए काम में मकसद ढूंढा जाए और, सबसे जरूरी बात कि भरोसेमंद सहकर्मियों के रूप में एक मजबूत सपोर्ट सिस्टम बनाया जाए.

तनाव का इलाज

तनाव है तो इलाज भी मौजूद है
तनाव है तो इलाज भी मौजूद है
इन्फोग्राफिक्स:स्मृति चंदेल 

Follow our डिजिटल हेल्थ section for more stories.

    Loading...