ASMR: इंटरनेट पर लोगों को इतनी पसंद क्यों आ रही हैं ये आवाजें?
ये साउंड कुछ लोगों को रिलैक्स करने में मदद करता है. 
ये साउंड कुछ लोगों को रिलैक्स करने में मदद करता है. (फोटो: iStock)

ASMR: इंटरनेट पर लोगों को इतनी पसंद क्यों आ रही हैं ये आवाजें?

कुछ खास किस्म की आवाजें हमें शांति देती हैं. बहते पानी, समुद्री हवा और लहरें, सुकून देती हैं. है ना? लेकिन चिप्स या बर्फ खाने, रेत या बालू काटने, फुसफुसाने की आवाजें हमें क्यों भाती हैं?

क्या इस वीडियो में सुनाई दे रही आवाजें आपको अच्छी लग रही हैं?

अगर ये और ऊपर बताई गई कोई भी आवाज आपको सुकून देती है, बेहतर महसूस कराती है, शरीर में एक तरह की सिरहन पैदा करती है, तो आप ऐसे अकेले नहीं हैं बल्कि पूरी की पूरी ASMR कम्यूनिटी आपके साथ है.

ASMR या Autonomous Sensory Meridian Response का मतलब उस प्रतिक्रिया से है, जो किसी खास किस्म की आवाजों से आपके शरीर में होती है. 

दिल्ली के साकेत में मैक्स सुपर स्पेशएलिटी हॉस्पिटल में डिपार्टमेंट ऑफ मेंटल हेल्थ के डायरेक्टर डॉ समीर मल्होत्रा इसे सुनने से जुड़ी उत्तेजना की प्रतिक्रिया के तौर पर परिभाषित करते हैं, जिसमें लोग झुनझुनी सा अनुभव करते हैं.

Loading...

रोजाना अपलोड किए जाते हैं ऐसे वीडियो

यूट्यूब पर करीब 1.5 करोड़ ASMR वीडियोज हैं, जिनके व्यूज लाखों में हैं.

यूट्यूब और इंस्टाग्राम पर रोजाना अपलोड किए जाते हैं ऐसे वीडियोज.
यूट्यूब और इंस्टाग्राम पर रोजाना अपलोड किए जाते हैं ऐसे वीडियोज.
(फोटो: यूट्यूब स्क्रीनशॉट)

एक सिंपल से सर्च में आपको टाइटल अजीब लग सकते हैं, लेकिन ASMR की दुनिया से परिचित होने के बाद यही आपको सुकून देने वाला लगने लगेगा. जैसे:

i) Best Friend Does Your Nails

ii) खाने की आवाज

चीन में ASMR पर जून, 2018 में पाबंदी लगा दी गई. इस रिपोर्ट के अनुसार चीन के एंटी-पॉर्नोग्राफी ऑफिस की ओर से जारी किए गए बयान में बताया गया, "ASMR की आड़ में पॉर्न जारी किया जा रहा है, ये नाबालिगों के लिए खतरा हो सकता है, जो जाहिर तौर पर ASMR की दर्शकों की तादाद का एक बड़ा हिस्सा होते हैं."

हालांकि इस रिपोर्ट में आगे बताया गया कि 2015 में की गई एक स्टडी के मुताबिक ASMR के कुल दर्शकों में से केवल 5 प्रतिशत यूजर्स ने सेक्शुअल उत्तेजना का अनुभव किया था.

तो, ASMR को मुख्य रूप से किसके लिए इस्तेमाल किया जा रहा है?

ASMR और मेंटल हेल्थ

यूके में यूनिवर्सिटी ऑफ शेफील्ड की एक स्टडी में बताया गया कि ASMR के जरिए माइंडफुलनेस या मेडिटेशन जैसा असर हो सकता है. इसमें बताया गया कि ASMR शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद हो सकता है. इससे हार्ट रेट नियंत्रित होता है और एंग्जाइटी लेवल घटता है. इसके अलावा प्रेग्नेंट महिलाओं को ASMR की मदद से आराम मिल सकता है और नींद न आने की दिक्कतें दूर हो सकती हैं.

इससे हार्ट रेट नियंत्रित होता है और एंग्जाइटी लेवल घटता है.
इससे हार्ट रेट नियंत्रित होता है और एंग्जाइटी लेवल घटता है.
(फोटो: iStock)

डॉ मल्होत्रा बताते हैं कि इसमें आराम या सुकून देने वाली आवाजों के जरिए चिंतित करने वाले विचारों से हमारा ध्यान हटता है. ये आवाजें नर्वस सिस्टम में न्यूरोकेमिकल्स पर सकारात्मक असर डालती हैं.

हालांकि डॉक्टर्स और मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट सलाह देते हैं कि ASMR एंग्जाइटी से शांति जरूर देता है, लेकिन ये चिंता या डिप्रेशन का इलाज नहीं है. डॉ मल्होत्रा बताते हैं कि जब हम अपने दिमाग को टास्क-ओरिएंटेड एक्टिविटी में लगाते हैं, तो हमारे दिमाग का डे-ड्रीमिंग हिस्सा, मीडियल प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स और पॉस्टीरियर सिंगुलेट जाइरस सबसे ज्यादा एक्टिव होते हैं.

सरल शब्दों में, ASMR ध्वनि आपकी अन्य इंद्रियों को शांत करती है और नींद लाने या आपकी चिंता को कम करने में मदद करती है.

ये भी पढ़ें : कॉफी पीकर कैसे दूर हो जाती है नींद? जानिए शरीर पर कैफीन का असर

किन लोगों पर होता है ASMR का असर?

अब, अगर आप इन बातों से सहमत नहीं हैं या फिर आपको ये वीडियोज देखकर ऐसा कुछ अनुभव नहीं हो रहा है, तो शायद आप भी अकेले नहीं हैं. डॉ मल्होत्रा के मुताबिक ASMR उन लोगों पर ही असर करता है, जो उसे महसूस करना चाहते हैं.

वर्जीनिया के शैनन दोह यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ फार्मेसी में प्रोफेसर क्रैग रिचर्ड बताते हैं कि कैसे कुछ लोग इससे बड़ी आसानी से प्रभावित हो जाते हैं:

मुझे लगता है कि जिन लोगों को ये अनुभव होता है, उनमें ऑक्सीटोसिन (एक ब्रेन केमिकल) ज्यादा प्रोड्यूस होता है. 

ASMR इंटरनेट पर तेजी से बढ़ता एक वीडियो जॉनर है, जिसमें लोग घंटों तक अनोखी चीजें करते हैं. हो सकता है कि ये आपके लिए काम करता हो या फिर नहीं, लेकिन यहां एक यूजर का बर्फ खाता हुआ वीडियो है. देखिए और मजे लीजिए.

ये भी पढ़ें : क्या आप कुछ आवाजों के कारण आपा खो देते हैं?

Follow our डिजिटल हेल्थ section for more stories.

Loading...